जम्मू-कश्मीर में बीते कुछ समय के दौरान आतंकी हमलों में हुई बढोत्तरी के बीच मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने एक बार फिर भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत की हिमायत की है. महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को राज्य विधानसभा में कहा, ‘पाकिस्तान के खिलाफ हर युद्ध में भारत ने जीत दर्ज की है, इसके बावजूद हमारे पास आज भी बातचीत के सिवाय कोई दूसरा रास्ता नहीं है. आखिर कब तक हमारे जवान इसी तरह शहीद होते रहेंगे और नागरिक मारे जाते रहेंगे.’

महबूबा मुफ्ती ने इसी मसले पर बाद एक ट्वीट भी किया. इसमें उन्होंने लिखा है, ‘खून-खराबा रोकने और शांति बहाली के लिए हमें बातचीत करनी ही होगी क्योंकि युद्ध इसका विकल्प नहीं है.’ इसके साथ महबूबा ने यह भी कहा कि हो सकता है उनकी इस बात को लेकर देश का मीडिया उनके खिलाफ हो जाए और उन्हें देशद्रोही ठहराए, लेकिन इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि ताजा माहौल से राज्य के नागरिकों को बहुत मुसीबतें झेलने पड़ रही है. उन्होंने ट्वीट में आगे लिखा है, ‘दुर्भाग्य से कुछ मीडिया समूहों ने आज ऐसा माहौल बना दिया है कि अगर कोई इंसान पाकिस्तान से बातचीत करने की बात कह दे तो उस पर देशद्रोही होने का ठप्पा लगा दिया जाता है.’

महबूबा ने विधानसभा में भाषण देते हुए याद दिलाया कि 1999 में देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी ने पाकिस्तान की ऐतिहासिक यात्रा की थी. मुख्यमंत्री के मुताबिक मौजूदा समय में अगर वाजपेयी बस से लाहौर जाते तो आश्चर्य की बात नहीं कि उनका भी विरोध होता.