जम्मू-कश्मीर के सुंजवान में सेना के कैंप पर हुए आतंकी हमले के बाद भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. रक्षा मंत्री निर्मला सीतामण ने कहा कि पाकिस्तान को इस दुस्साहस की कीमत चुकानी होगी. उन्होंने कहा कि सैनिकों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा. निर्मला सीतारमण के मुताबिक यह हमला जैश-ए-मोहम्मद ने किया और उसे पाकिस्तान से मदद मिली. उन्होंने जैश के मुखिया मसूद अज़हर को इसका मास्टरमाइंड बताया लेकिन, यह भी जोड़ा कि इसे स्थानीय स्तर पर भी समर्थन हासिल था. शनिवार को हुए इस हमले में सेना के पांच जवान शहीद हो गए थे. जवाबी कार्रवाई में तीन आतंकी मार गिराए गए. सोमवार को श्रीनगर में सीआरपीएफ के कैंप पर भी हमला हुआ. इसमें भी एक जवान शहीद हो गया.

दूसरी तरफ, पाकिस्तान ने भारत को चेतावनी दी है कि वह सीमा पार सर्जिकल स्ट्राइक जैसी कार्रवाई के बारे में न सोचे. पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने सोमवार को एक बयान जारी किया.इसमें कहा गया कि जब भी ऐसी घटना होती है, भारत जांच-पड़ताल पूरी किए बिना पाकिस्तान पर आरोप लगा देता है. पाकिस्तान के मुताबिक भारत का यह रुख कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों से ध्यान भटकाने की साजिश है.