पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की मुंबई स्थित एक शाखा में 15 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है. समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार पीएनबी ने इस मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के पास अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी और एक आभूषण निर्माता कंपनी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है. पीएनबी की एक अन्य शिकायत पर सीबीआई नीरव मोदी के खिलाफ पहले से ही ऐसे ही एक फर्जीवाड़े की जांच कर रही है.

पीएनबी ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) को भी इस फर्जीवाड़े की जानकारी दे दी है. बीएसई को पीएनबी ने बताया, ‘मुंबई स्थित एक ब्रांच में जालसाजीपूर्ण और अनधिकृत लेन-देन पकड़ा गया है, जिससे चुनिंदा खाता धारकों को फायदा हो रहा था, जिसके लिए उनकी साफ तौर पर मौन सहमति थी.’ पीएनबी ने इस फर्जी लेन-देन के आधार पर दूसरे बैंकों द्वारा इन ग्राहकों को विदेश में अग्रिम रूप से पैसे दिए जाने की भी आशंका जताई है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक पीएनबी में इस फर्जीवाड़े की जानकारी सामने आने के बाद उसके शेयरों की कीमत में आठ फीसदी तक की गिरावट दर्ज की गई.

इस बीच पीएनबी ने इस फर्जीवाड़े के तहत किए गए सारे लेन-देन को आकस्मिक किस्म का बताया है. खुद को पारदर्शी बैंकिंग व्यवस्था के लिए प्रतिबद्ध बताते हुए बैंक ने कहा है कि वह कानून के आधार पर इस मामले में अपनी जवाबदेही तय करेगा. उधर, सरकार ने कहा है कि फिलहाल ज्यादा चिंता की बात नहीं है. वित्तीय सेवा विभाग में संयुक्त सचिव लोक रंजन ने कहा कि स्थिति नियंत्रण में है और इस पर जरूरी कार्रवाई की जा रही है.