दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने बीते दस साल से फरार चल रहे इंडियन मुजाहिद्दीन (आईएम) के संदिग्ध आतंकी अरिज अली उर्फ जुनैद को गिरफ्तार कर लिया है. द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार जुनैद 2008 में बाटला हाउस मुठभेड़ के बाद से फरार था. इस मुठभेड़ में आईएम के दो संदिग्ध मारे गए थे, जबकि दो को पकड़ लिया गया था. वहीं, दिल्ली पुलिस के एक इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा भी शहीद हो गए थे.

पुलिस उपायुक्त (स्पेशल सेल) पीएस कुशवाहा ने जुनैद की गिरफ्तारी की पुष्टि की है. इसे दिल्ली पुलिस की बड़ी सफलता बताते हुए उन्होंने कहा कि जुनैद को भारत-नेपाल सीमा से गिरफ्तार किया गया है. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने संदिग्ध जुनैद की सूचना देने पर 10 लाख रुपये, जबकि दिल्ली पुलिस ने पांच लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा था.

जुनैद मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ का रहने वाला है. पुलिस के मुताबिक पेशे से इंजीनियर जुनैद 2008 में बटला हाउस मुठभेड़ के दौरान जामिया नगर के एल-18 में छिपा हुआ था. यह मुठभेड़ दिल्ली के पहाड़गंज, बाराखंभा रोड, कनॉट प्लेस, ग्रेटर कैलाश और गोविंदपुरी में सिलसिलेवार बम धमाकों के छह दिन बाद हुई थी. इन धमाकों में 30 लोग मारे गए थे, जबकि 100 से ज्यादा घायल हो गए थे. जुनैद पर इन धमाकों में शामिल होने का आरोप है.