प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को ईटानगर में अरुणाचल प्रदेश के नए सचिवालय और दोरजी खांडू कनवेंशन सेंटर का उद्घाटन किया. इस मौके पर उन्होंने कहा, ‘जिस अरुणाचल प्रदेश से प्रकाश फैलता है, आने वाले समय में यहां से विकास का ऐसा प्रकाश फैलेगा कि पूरा देश देखेगा.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा कि नए सचिवालय भवन से जनता को सहूलियत होगी, क्योंकि सारे प्रमुख विभाग एक ही छत के नीचे मिल जाएंगे. यह बीते साल डोकलाम में चीन के साथ टकराव के बाद अरुणाचल प्रदेश का उनका पहला दौरा था.

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस पर निशाना साधने से नहीं चूके. उन्होंने कहा, ‘इस देश में पैसे की कमी नहीं है. लेकिन बाल्टी में छेद हो तो क्या पानी भरेगा? हमारे देश में पहले ऐसे ही चला है.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा, ‘सारी प्रमुख बैठकें राष्ट्रीय राजधानी में ही क्यों होनी चाहिए? हमें सभी राज्यों में जाना चाहिए. इसी वजह से मैं पूर्वोत्तर परिषद की बैठक के लिए शिलांग आया और कृषि से जुड़ी एक प्रमुख बैठक सिक्किम में हुई.’ उन्होंने यह भी कहा कि मोरारजी देसाई आखिरी प्रधानमंत्री थे, जिन्होंने पूर्वोत्तर परिषद की बैठक में भाग लिया था, जिसके बाद किसी भी प्रधानमंत्री को इसमें शामिल होने का समय ही नहीं मिला.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चिकित्सा क्षेत्र में सुधार पर भी जोर दिया. उन्होंने कहा, ‘चिकित्सा क्षेत्र में मानव संसाधन तैयार करने और ढांचागत विकास के साथ आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करने की जरूरत है.’ आयुष्मान भारत योजना का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार देश के सभी हिस्सों में मेडिकल कॉलेज बनाने के लिए प्रयास कर रही है.