भारत का चंद्रयान-2 मिशन इसी अप्रैल में लॉन्च हो सकता है. केंद्र सरकार में अंतरिक्ष विभाग का स्वतंत्र प्रभार संभाल रहे राज्य मंत्री डॉक्टर जीतेंद्र सिंह ने इसकी पुष्टि की है.

द फाइनेंशियल एक्सप्रेस के मुताबिक़ भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन-इसरो चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग की तैयारी कर रहा है. यह मिशन इसरो के चंद्रयान-1 की अगली कड़ी है जो 2008 में छोड़ा गया था और बेहद सफल रहा था. ख़बर के मुताबिक़ डॉक्टर जीतेंद्र सिंह ने अंतरिक्ष एवं परमाणु ऊर्जा विभागों की सफलताओं पर मीडिया से बात करते हुए चंद्रयान-2 के बारे में जानकारी साझा की थी.

उन्होंने बताया कि चंद्रयान-2 काफ़ी चुनौतीपूर्ण मिशन साबित होने वाला है. क्योंकि पहली बार ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर को एक साथ लेकर रॉकेट छोड़ा जाएगा. यह भारत के लिए बड़े गर्व की बात होगी. चंद्रयान-2 भारत को अंतरिक्ष तकनीक के क्षेत्र में एक नई ऊंचाई पर ले जाएगा. इस मिशन के बारे में अंतरिक्ष विभाग के सचिव और अंतरिक्ष आयोग के अध्यक्ष डॉक्टर के शिवन ने विस्तार से जानकारी दी.

शिवन ने बताया, ‘चंद्रयान-2 की लागत लगभग 800 करोड़ रुपए के आसपास होगी. हालांकि अगर अप्रैल के महीने में मौसम अनुकूल नहीं रहा तो यह मिशन अक्टूबर के महीने में भी लॉन्च हो सकता है.’ उन्होंने इसरो की उपलब्धियां भी गिनाईं. उन्होंने बताया, ‘इसरो ने पिछले चार साल में 48 मिशन सफलतापूर्वक छोड़े हैं. इनमें 21 प्रक्षेपण यान से संबंधित थे, 24 उपग्रह से और तीन तकनीक प्रदर्शन से जुड़े थे.’