सुंजवान हमले के बाद पाकिस्तान की चेतावनी, कहा - भारत सर्जिकल स्ट्राइक की कोशिश न करे | सोमवार, 12 फरवरी 2018

पाकिस्तान ने भारत को चेतावनी दी है कि वह सीमा पार सर्जिकल स्ट्राइक जैसी कोई कोशिश न करे. उसने यह बात शनिवार को जम्मू-कश्मीर के सुंजवान में हुए आतंकवादी हमले के बाद कही. भारत ने इस हमले का आरोप पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद पर लगााया है.

सोमवार को पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी करके कहा कि किसी भी घटना की जांच पूरी हुए बिना ही भारतीय अधिकारी एक दिशा में आरोप लगाना शुरू कर देते हैं. बयान में कहा गया है, ‘भारत ऐसे आरोप इसलिए भी लगाता है ताकि कश्मीर में निर्दयता से दबाए जा रहे सशस्त्र विद्रोह के मुद्दे से वह ध्यान भटका सके.’ बयान में आगे कहा गया है, ‘हमें आशा है कि भारत की तरफ से कश्मीर हो रहे मानवाधिकार के उल्लंघन पर विश्व समुदाय ध्यान देगा और भारत को ऐसा करने से रोकने के लिए दबाव बनाएगा.’ शनिवार को सुंजवान कैंप पर हमले के बाद भारत ने हमलावर आतंकवादियों का ताल्लुक जैश-ए-मोहम्मद के साथ होने के आरोप लगाए थे.

क्या हाफिज सईद के संगठनों पर यह कार्रवाई पाकिस्तान को ‘ग्रे लिस्ट’ में जाने से बचा पाएगी? | मंगलवार, 13 फरवरी 2018

बीते मंगलवार को पाकिस्तान ने हाफिज सईद के जमात-उद-दावा (जेयूडी) और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) को प्रतिबंधित संगठनों की सूची में डाल दिया. पाकिस्तान ने एक अध्यादेश के जरिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा प्रतिबंधित व्यक्तियों और संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए अपने आतंकरोधी कानून (एटीए) में बदलाव किया है.

रिपोर्ट के मुताबिक इस अध्यादेश के जरिए सरकार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा प्रतिबंधित व्यक्तियों और संगठनों के कार्यालयों को सील करने और उनके बैंक खातों पर रोक लगाने का अधिकार मिल गया है. पाकिस्तान ने यह कदम फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की 18 फरवरी को पेरिस में होने जा रही बैठक से पहले उठाया है. इस बैठक में आतंकियों के वित्त पोषण और मनी लॉन्डरिंग रोकने के लिए 2015 के बाद पाकिस्तान को दोबारा ‘ग्रे लिस्ट’ में डाले जाने का खतरा मंडरा रहा है. एफएटीएफ के एक प्रतिनिधिमंडल ने इसी महीने पाकिस्तान का दौरा किया था और उसके खिलाफ नकारात्मक रिपोर्ट दी थी.

इजरायल : पुलिस ने प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के खिलाफ रिश्वत का मामला चलाने की सिफारिश की | बुधवार, 14 फरवरी 2018

इजरायल की पुलिस ने प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के खिलाफ रिश्वत का मामला चलाए जाने की सिफारिश की है. मंगलवार को पुलिस ने सार्वजनिक रूप से कहा कि उनके खिलाफ रिश्वत का मामला दर्ज किया जाना चाहिए. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक पुलिस ने जो आरोप उन पर लगाए हैं वे दो आपराधिक मामलों की जांच से संबंधित हैं. खबर के मुताबिक यह अब इजरायल के अटॉर्नी जनरल को तय करना है कि नेतन्याहू के खिलाफ केस दर्ज किया जाए या नहीं.

एक मामले में बेंजामिन नेतन्याहू पर रिश्वत लेने, धोखा और विश्वासघात करने का आरोप लगाया गया है. पुलिस के बयान के मुताबिक हॉलीवुड के एक निर्माता और इजरायली नागरिक अरनोन मिलचैन और ऑस्ट्रेलियाई व्यवसायी जेम्स पैकर ने करीब एक दशक (2007 से 2016) तक बेंजामिन नेतन्याहू और उनके परिवार को कई तोहफे दिए. इनमें शैंपेन, सिगार और आभूषण के अलावा और भी चीजें शामिल थीं. (विस्तार से)

दक्षिण अफ्रीका : राष्ट्रपति जैकब जुमा ने इस्तीफा दिया | गुरूवार, 15 फरवरी 2018

दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा ने बुधवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया. उन पर सरकारी धन के दुरुपयोग और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का आरोप था. इससे पहले दक्षिण अफ्रीका के सत्तारूढ़ दल अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस (एएनसी) ने सोमवार को उनसे इस्तीफा देने को कहा था. हालांकि तब उन्होंने इस्तीफा देने से इनकार कर दिया था. इसके बाद एएनसी ने कहा कि अगर वे पद से इस्तीफा नहीं देते तो संसद में बृहस्पतिवार को उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा.

एएनसी और जैकब जुमा के बीच चल रही तनातनी इससे पहले कि कोई नया मोड़ लेती, जैकब जुमा ने इस्तीफा देने की घोषणा कर दी. अपने विदाई संबोधन में उन्होंने कहा, ‘मैं तुरंत प्रभाव से राष्ट्रपति पद से इस्तीफा देता हूं. हालांकि मैं पार्टी के निर्णय से सहमत नहीं हूं. लेकिन मैं यह भी नहीं चाहता कि मैं एएनसी के विभाजन का कारण बनूं.’ जैकब जुमा का कार्यकाल 2019 तक चलना था.

पाकिस्तान अपनी सेना सऊदी अरब क्यों भेज रहा है? | शुक्रवार, 16 फरवरी 2018

पाकिस्तान अपनी सेना की एक टुकड़ी सऊदी अरब भेज रहा है. पाकिस्तान की सेना की ओर से यह ऐलान किया गया. गुरुवार को पाकिस्तान में सऊदी अरब के राजदूत नवाफ़ सईद अल-मालिकी की पाकिस्तानी सेना प्रमुख क़मर जावेद बाजवा के साथ रावलपिंडी में बैठक हुई है. पाकिस्तानी सेना के मुख्यालय में यह बैठक हुई. इसके बाद सेना की ओर से एक बयान जारी किया गया. इसमें बताया गया, ‘सऊदी अरब के साथ पाकिस्तान के द्विपक्षीय सुरक्षा सहयोग को जारी रखते हुए पाकिस्तानी सेना की एक टुकड़ी वहां भेजी जा रही है.’

बयान में कहा गया, ‘पाकिस्तानी सेना की टुकड़ी सऊदी अरब की सेना को प्रशिक्षण और रणनीतिक सलाह देगी.’ सूत्रों के मुताबिक़ इसी मक़सद से पाकिस्तान के क़रीब 1,000 सैनिक पहले ही सऊदी अरब में तैनात हैं. और अब पूरी एक ब्रिगेड के बराबर अतिरिक्त सैनिक वहां भेजे जा रहे हैं. ग़ौरतलब है कि यमन इन दिनों गृह युद्ध की स्थिति है. इसमें सऊदी अरब की सेना भी शामिल है. इसी सिलसिले में वह पाकिस्तान से सैन्य सहयोग ले रहा है.

मालदीव : पूर्व राष्ट्रपति गयूम की रिहाई के लिए प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस ने डंडे बरसाए | शनिवार, 17 फरवरी 2018

शनिवार को मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मैमून अब्दुल गयूम के कई समर्थकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. शुक्रवार को ये लोग गयूम की रिहाई और राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन से इस्तीफे की मांग करते हुए प्रदर्शन कर रहे थे. इस दौरान इन पर पुलिस ने बल प्रयोग भी किया है जिसमें दर्जनों लोग घायल हुए हैं.

शुक्रवार की घटना के बाद शनिवार को जारी बयान में पुलिस ने कहा कि लोगों को प्रदर्शन न करने की चेतावनी दी गई थी. पुलिस के मुताबिक देश में आपातकाल लागू है और इस दौरान प्रदर्शन नहीं किए जा सकते. हालांकि पुलिस ने इस घटना में घायल और गिरफ्तार प्रदर्शनकारियों की संख्या के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है. मालदीव में राजनीतिक संकट की शुरुआत एक फरवरी को वहां की सरकार और सुप्रीम कोर्ट के बीच टकराव से शुरू हुई थी.