बड़ा ऑफर देने के हफ्ते भर बाद ही एयरटेल टीवी कई चर्चित एप्स को पछाड़ कर पहले पायदान पर पहुंच गया है. गूगल प्ले-स्टोर पर सबसे ज्यादा फ्री डाउनलोड किए जाने वाले एप्स की श्रेणी में एयरटेल टीवी ने न सिर्फ जियो टीवी बल्कि वाट्सएप को भी पीछे छोड़ दिया है. इस मामले में जियो टीवी चौथे और वाट्सएप पांचवें स्थान पर है. दूसरे पायदान पर फेसबुक मैसेंजर और तीसरे पर हॉटस्टार है. इसके अलावा एपल के एप स्टोर पर भी एयरटेल का यह एप ‘एंटरटेनमेंट’ श्रेणी में लंबी छलांग लगाते हुए दूसरे पायदान पर पहुँच गया है.

एयरटेल की इस सफलता के पीछे दो कारण बताए जा रहे हैं. पहला वह ऑफर है जिसके तहत कंपनी ने एयरटेल टीवी एप पर 300 से ज्यादा लाइव टीवी चैनल और 6,000 फ़िल्में फ्री में देखने की सुविधा दी है. एयरटेल ने पिछले हफ्ते ही हॉटस्टार के साथ एक बड़ा समझौता किया था जिसे इस सफलता का दूसरा बड़ा कारण बताया जा रहा है. इस समझौते के तहत स्टार इंडिया नेटवर्क के 22 चैनलों को नौ भाषाओं में एयरटेल टीवी एप पर दिखाने की अनुमति दी गई है. इन चैनलों में टीवी शो, लाइव स्पोर्ट्स और मूवीज चैनल शामिल हैं.

भारत ने 800 करोड़ की लागत वाले चंद्रयान-2 मिशन की तैयारी शुरू की

भारत का चंद्रयान-2 मिशन इसी अप्रैल में लॉन्च हो सकता है. केंद्र सरकार में अंतरिक्ष विभाग का स्वतंत्र प्रभार संभाल रहे राज्य मंत्री डॉक्टर जीतेंद्र सिंह ने इसकी पुष्टि की है. उनके मुताबिक भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन-इसरो चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग की तैयारी कर रहा है. यह मिशन इसरो के चंद्रयान-1 की अगली कड़ी है जो 2008 में छोड़ा गया था और बेहद सफल रहा था.

जीतेंद्र सिंह ने बताया कि चंद्रयान-2 काफ़ी चुनौतीपूर्ण मिशन साबित होने वाला है. क्योंकि पहली बार ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर को एक साथ लेकर रॉकेट छोड़ा जाएगा. यह भारत के लिए बड़े गर्व की बात होगी. चंद्रयान-2 भारत को अंतरिक्ष तकनीक के क्षेत्र में एक नई ऊंचाई पर ले जाएगा. इस मिशन के बारे में अंतरिक्ष विभाग के सचिव और अंतरिक्ष आयोग के अध्यक्ष डॉक्टर के शिवन ने विस्तार से जानकारी दी.

शिवन ने बताया, ‘चंद्रयान-2 की लागत लगभग 800 करोड़ रुपए के आसपास होगी. हालांकि अगर अप्रैल के महीने में मौसम अनुकूल नहीं रहा तो यह मिशन अक्टूबर के महीने में भी लॉन्च हो सकता है.’ उन्होंने इसरो की उपलब्धियां भी गिनाईं. उन्होंने बताया, ‘इसरो ने पिछले चार साल में 48 मिशन सफलतापूर्वक छोड़े हैं. इनमें 21 प्रक्षेपण यान से संबंधित थे, 24 उपग्रह से और तीन तकनीक प्रदर्शन से जुड़े थे.’

सस्ते स्मार्ट फोन्स के लिए जीमेल का लाइट वेट वर्जन एप लांच

गूगल ने निम्न मध्यमवर्गीय मोबाइल यूजर को एक बड़ी सहूलियत देते हुए ‘जीमेल गो’ एप लॉन्च कर दिया है. कंपनी ने गुरुवार को बताया कि अब यह एप गूगल प्ले स्टोर पर डाउनलोड के लिए उपलब्ध है. यह एप उस ‘गो’ सीरीज का हिस्सा है जिसके तहत गूगल ने अपनी सभी चर्चित एप का ‘लाइट वेट’ वर्जन यानी सस्ते एंड्रॉयड फोन पर भी चल सकने वाले एप लॉन्च करने का वादा किया है.

‘जीमेल गो’ को एंड्रॉयड के वर्जन 8.1 ओरियो या इसके बाद के वर्जन के लिए बनाया गया है. कंपनी का दावा है कि यह 512 एमबी से 1 जीबी रैम तक के स्मार्टफोन्स पर वैसे ही काम करेगा जैसे इसका मूल एप अधिक रैम वाले स्मार्टफोन्स पर काम करता है. ‘जीमेल गो’ जीमेल की मूल एप के मुकाबले बहुत कम जगह लेता है. जहां जीमेल का मूल एप 47 एमबी स्पेस घेरता है वहीं जीमेल गो को केवल 25 एमबी स्पेस की ही जरूरत होती है.

अन्य फीचर्स की बात करें तो मूल एप की तरह इस एप में भी एक साथ एक से ज्यादा अकाउंट एक्टिव रखे जा सकते हैं. पुश नोटिफिकेशन ऑन करने और अटैचमेंट्स भेजने जैसे फीचर्स भी इसमें दिए गए हैं. साथ ही जीमेल गो एप में 15 जीबी तक फ्री स्टोरेज की सुविधा भी दी गई है. (विस्तार से)