दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से कथित बदसलूकी और मारपीट के मामले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन का ताजा बयान पार्टी की मुश्किलें बढ़ा सकता है. टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक वीके जैन ने पुलिस को बताया कि उन्होंने दोनों आप विधायकों को अंशु प्रकाश पर हमला करते देखा था. आप विधायक अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जारवाल पर मुख्य सचिव से मारपीट के आरोप हैं. दोनों फिलहाल 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक बयान में वीके जैन ने कहा है, ‘मैं वॉशरूम जाने के लिए मीटिंग से उठा था. जब लौटा तो देखा विधायक अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जारवाल मुख्य सचिव को यह कहते हुए मार रहे थे कि उन्होंने काम क्यों नहीं किया. उन्होंने उन्हें (अंशु प्रकाश को) धक्का दिया और फिर उनकी ठोड़ी पकड़ कर काम के बारे में पूछने लगे. अचानक उनका चश्मा गिर गया.’ इससे पहले जैन ने कहा था कि वे घटना के वक्त शौचालय में थे और उन्होंने कुछ नहीं देखा था.

उधर, आप का कहना है कि इस मामले में उसके खिलाफ साजिश हो रही है. पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने कहा कि पुलिस ने वीके जैन को प्रताड़ित कर उनका बयान बदलवाया है. संजय सिंह ने कहा कि अदालत में पेश मूल बयान में जैन ने मुख्य सचिव के साथ बदसलूकी किए जाने की बात नहीं कही है. फिलहाल, दोनों तरफ की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने अपना फैसला आज के लिए सुरक्षित रख लिया है.

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश ने आरोप लगाया था कि बीते सोमवार को आधी रात उन्हें मुख्यमंत्री आवास पर एक बैठक के लिए बुलाया गया और फिर उनके साथ मारपीट की गई. उनका आरोप था कि यह सब इसलिए किया गया कि वे एक सरकारी विज्ञापन को मंजूरी नहीं दे रहे थे. इस मामले पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भी दिल्ली के उपराज्यपाल से रिपोर्ट मांगी थी.