जम्मू-कश्मीर के उड़ी सेक्टर में भारत-पाकिस्तान सीमा से सटे गांव खाली होने लगे हैं. इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक वहां के निवासियों ने सुरक्षित स्थानों की तरफ रुख करना शुरू कर दिया है. ऐसा करने की वजह पाकिस्तान की तरफ से होने वाला संघर्ष विराम का उल्लंघन है. वह बीते सोमवार से ही इस सेक्टर में भारी गोलाबारी कर रहा है. सोमवार को हुए एक हमले में यहां के तीन निवासी घायल हो गए थे.

अखबार ने अपनी रिपोर्ट में जिला प्रशासन के अधिकारियों के हवाले से बताया है कि स्थानीय पुलिस ने सीमा से सटे दो गावों को उसी दिन खाली करा लिया था. अब अन्य गांवों के लोगों को भी सुरक्षित स्थानों की तरफ लाया जा रहा है. नियंत्रण रेखा से सटे गांवों के विस्थापितों के लिए फिलहाल उड़ी शहर के एक स्कूल में कैंप लगाया गया है. विस्थापितों का कहना है कि भारत और पाकिस्तान को मिलकर संघर्ष विराम के उल्लंघन को रोकना चाहिए क्योंकि इसने उनकी जिंदगियों को बेहद मुश्किल बना दिया है. उनका कहना है कि अगर ऐसा नहीं हो पाता है तो उन्हें किसी दूसरी जगह जमीन दे दी जाए ताकि वे शांति के साथ रह सकें.