भारतीय जनता पार्टी कर्नाटक में बीएस येद्दियुरप्पा के लिए 75 वाले नियम में ढील दे सकती है. सूत्रों के मुताबिक पार्टी ने अगर इस फ़ैसले पर मुहर लगाई तो आने वाले राज्य विधानसभा के चुनाव में भाजपा के जीतने पर येद्दियुरप्पा पूरे पांच साल के लिए मुख्यमंत्री बने रह सकते हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री और कर्नाटक के प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है, ‘येद्दियुरप्पा मुख्यमंत्री के तौर पर पांच साल का कार्यकाल पूरा करेंगे. उन पर कोई नियम (आयु सीमा संबंधी) लागू नहीं होगा.’ बताते चलें कि केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद से ही भाजपा ने यह अघोषित नियम बना रखा है कि 75 से ज़्यादा उम्र वाले नेता मंत्री, मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री जैसे पदों पर नहीं रह सकते.

इसी नियम के कारण अटकलें लगाई जा रही थीं कि 74 साल के हो रहे येद्दियुरप्पा मुख्यमंत्री बनते भी हैं तो वे बमुश्किल एक साल ही सरकार चला पाएंगे. इसी संभावना के चलते कर्नाटक भाजपा में मुख्यमंत्री पद के कई अघोषित दावेदार (खास तौर पर शोभा कारंदलजे और केएस ईश्वरप्पा) भी तैयार होते दिख रहे थे. संभवत: यही कारण है कि पार्टी ने मुख्यमंत्री पद के अपने प्रत्याशी येद्दियुरप्पा के बारे में चुनाव से पहले ही स्थिति साफ़ कर दी है.

बताया जाता है कि येद्दियुरप्पा के बारे में पार्टी के इस रुख़ को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मंगलवार को स्थिति पुख़्ता कर सकते हैं. वे मंगलवार को दावणगेरे में एक जनसभा को संबोधित करने वाले हैं. यह उत्तर कर्नाटक का लिंगायत बहुल इलाका है. लिंगायत समुदाय की आबादी राज्य में सबसे ज़्यादा है और येद्दियुरप्पा भी इसी समुदाय से ताल्लुक़ रखते हैं. समुदाय में उनकी लोकप्रियता भी काफ़ी है. इसीलिए उन्हें पार्टी सावधानी बरत रही है.