फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्यूएल मैक्रों अगले हफ्ते की नौ तारीख से चार दिनों के लिए भारत की आधिकारिक यात्रा पर होंगे. इस यात्रा के दौरान उनके साथ कारोबारियों और अधिकारियों का एक प्रतिनिधिमंडल भी होगा. विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई है. इस बयान में कहा गया है, ‘भारत और फ्रांस इस समय रक्षा, समुद्र, अंतरिक्ष के अलावा ऊर्जा के क्षेत्र में साथ मिलकर काम कर रहे हैं. इसके अलावा अब आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन, सतत विकास, बुनियादी ढांचा विकास, युवा आदान-प्रदान कार्यक्रम, विज्ञान और तकनीक जैसे विभिन्न मुद्दों पर भी द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाया जाएगा.’

इसी यात्रा के दौरान 11 मार्च को फ्रांसीसी राष्ट्रपति और भारतीय प्रधानमंत्री अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) से जुड़े एक सम्मेलन की सह अध्यक्षता भी करेंगे. मौजूदा समय में आइएसए के सहयोगी देशों की संख्या 121 हो गई है. इस कार्यक्रम की शुरुआत नरेंद्र मोदी ने जनवरी 2016 में की थी. इसका उद्देश्य पारंपरिक ऊर्जा की अपेक्षा सौर ऊर्जा के अधिक से अधिक इस्तेमाल को बढ़ावा देना है.

पिछले साल जून में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ्रांस की यात्रा पर गए तो उस दौरान उन्होंने मैक्रों को भारत आने के लिए निमंत्रित किया था. इससे पहले फ्रांसीसी राष्ट्रपति जनवरी 2016 में भी भारत की आधिकारिक यात्रा पर आ चुके हैं. तब गणतंत्र दिवस परेड के आयोजन में वे मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए थे.