जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में रविवार रात हुई मुठभेड़ में दो आतंकियों और चार युवकों के मारे जाने की ख़बर है. मुठभेड़ स्थल के पास से सोमवार सुबह दो और शव मिलने के बाद मरने वालों की संख्या छह हुई है. ख़बरों के मुताबिक जो दो शव मिले हैं उनमें एक लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी आशिक़ हुसैन भट का है. मुठभेड़ स्थल पाहनू से क़रीब 10 किलोमीटर दूर सैदपोरा में एक सेब के बागीचे में उसका शव मिला. भट जम्मू-कश्मीर के ही कपरान का रहने वाला था. इसके अलावा शोपियां जिले के ही चित्रगाम के रहने वाले गौहर अहमद लोन का शव भी पाहनू से कुछ मीटर की दूरी पर ही एक क्षतिग्रस्त कार में मिला है. दोनों शव गोलियों से छलनी पाए गए हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार मुठभेड़ में मारे गए युवाओं के बारे में सेना का कहना है कि उन चार में से तीन आतंकियों से मिले हुए थे. हालांकि अलगाववादी संगठनों ने इसे ‘बेग़ुनाह युवकों की हत्याएं’ बताया है. इन संगठनों ने सोमवार को कश्मीर बंद का ऐलान किया है. कई जगहों पर प्रदर्शन की भी ख़बर है.

ग़ौरतलब है कि रविवार रात पाहनू में चेकपोस्ट पर चैकिंग के दौरान सेना की 44 राष्ट्रीय राइफल्स (आआर) की टुकड़ी पर आतंकियों ने गोली चला दी थी. इस पर ज़वाबी कार्रवाई करते हुए शाहिद अहमद डार नाम के एक आतंकी और तीन अन्य युवकों को मार गिराया गया था. डार शोपियां के जामनगरी गांव का रहने वाला था.

रविवार को मारे गए तीन अन्य युवकों की पहचान के बारे में पुलिस या सुरक्षा बलों ने कुछ नहीं बताया था. अलबत्ता स्थानीय लोगों ने उनकी पहचान सुहैल अहमद वागे, नवाज़ अहमद वागे और शाहिद खान के तौर पर की थी. लोगों के मुताबिक सुहैल फलों का कारोबार करता था. बाकी दोनों उसके सहयोगी थे.