पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में 12,600 करोड़ रुपए से ज़्यादा की वित्तीय अनियमितता सामने आने के बाद अब ख़बर है कि भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली भी उससे दूरी बना सकते हैं. विराट कोहली का पीएनबी के साथ विज्ञापन अनुबंध है.

द इकॉनॉमिक टाइम्स के अनुसार पीएनबी के साथ विराट कोहली का विज्ञापन अनुबंध इसी साल ख़त्म हो रहा है. विराट के विज्ञापनों का इंतज़ाम देखने वाली एजेंसी- कॉर्नर स्टोन स्पोर्ट्स एंड एंटरटेनमेंट (सीएसई) के सूत्रों के मुताबिक पीएनबी के साथ अनुबंध बीच में रद्द किए जाने की संभावना तो नहीं है. यह जारी रहेगा. लेकिन इस बात की काफ़ी उम्मीद है कि अनुबंध का नवीनीकरण (रिन्यू) नहीं किया जाएगा.

सीएसई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) बंटी सजदेह भी इसकी पुष्टि करते हैं. उनके मुताबिक, ‘अब तक बैंक के साथ विज्ञापन अनुबंध बढ़ाने के बारे में कोई बातचीत नहीं हुई है. और न ही दोनों पक्षों में से किसी ने इसकी पहल की है. हालांकि हमारा यह भी मानना है कि जिस वित्तीय अनियमितता का ख़ुलासा हुआ है उसके लिए पूरी तरह बैंक को दोषी नहीं ठहराया जा सकता. इसके पर्याप्त सबूत भी नहीं हैं.’

ग़ौरतलब है कि पीएनबी ने सितंबर-2016 में विराट को अपना ब्रांड एंबेसडर बनाया था. लेकिन अभी कुछ समय पहले ही यह ख़ुलासा हुआ कि हीरे-जवाहरात के कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी को हजारों करोड़ रुपए का कर्ज़ देने में बैंक के कुछ अधिकारी/कर्मचारियों ने अनियमितता बरती. इससे बैंक का 12,600 करोड़ रुपए से ज़्यादा कर्ज़ फंस गया. इस ख़ुलासे के बाद ये ख़बरें आई थीं कि कोहली बैंक के लिए विज्ञापन बंद कर सकते हैं. हालांकि बैंक ने भी अपनी ओर से इन ख़बरों को पूरी तरह ग़लत और निराधार बताया है .