नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के प्रमुख कॉनराड संगमा ने मंगलवार को मेघालय के नए मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ले ली. हाल में ही हुए राज्य विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी ने 19 सीटें जीती हैं. इसके अलावा उन्हें भारतीय जनता पार्टी सहित अन्य दलों का समर्थन भी हासिल है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक पूर्व लोक सभा अध्यक्ष पीए संगमा के पुत्र 40 वर्षीय पुत्र कॉनराड मेघालय के 12वें मुख्यमंत्री बने हैं. शिलॉन्ग में हुए शपथ ग्रहण समारोह के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ख़ास तौर पर मौज़ूद थे. हालांकि इस समारोह के पहले ही कॉनराड को एक झटका भी लगा. उन्हें समर्थन देने का पहले ऐलान कर चुकी हिल स्टेट पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (एचएसपीडीपी) अपने रुख़ से पलट गई.

एचएसपीडीपी ने इस बात पर ऐतराज़ किया कि कॉनराड ने सरकार बनाने के लिए भाजपा का भी समर्थन लिया है. इसलिए उसने शपथ ग्रहण समारोह से पहले ही कॉनराड सरकार से समर्थन वापस ले लिया. इस पार्टी के दो विधायक हैं. हालांकि इन विधायकों के समर्थन वापस लेने के बावज़ूद कॉनराड के साथ 32 विधायक हैं. इस तरह 60 सदस्यों वाली विधानसभा में बहुमत के लिए ज़रूरी 31 विधायकों की ज़रूरत से उनके पास एक ज़्यादा है.

अलबत्ता इतने कम बहुमत के चलते उनकी सरकार को ख़तरा हमेशा बना रह सकता है. यही नहीं सरकार के गठन में भी उन्हें दिक्कत होने की आशंका है. क्योंकि अब उन्हें समर्थन देने वालीं यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी (यूडीपी- छह सीटें), पीपुल्स डेमोक्रेटिक फ्रंट (पीडीएफ़- चार सीटें) भाजपा (दो सीटें) और एक निर्दलीय सरकार में बड़े और अहम मंत्रालय हासिल करने के लिए ज़्यादा भाव-ताव करेंगे.