कांग्रेस नेता और पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्डरिंग मामले में गिरफ्तारी से फौरी राहत मिल गई है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार दिल्ली हाई कोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को 20 मार्च को अगली सुनवाई तक उन्हें गिरफ्तार न करने का निर्देश दिया है. हाई कोर्ट ने कार्ति चिदंबरम की याचिका पर केंद्र सरकार और ईडी से जवाब मांगा है. अपनी इस याचिका में उन्होंने कहा है कि ईडी को आईएनएक्स मीडिया मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा दर्ज की गई एफआईआर के आधार पर उनकी गिरफ्तारी करने का अधिकार ही नहीं है.

इससे पहले गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने कार्ति चिदंबरम को अंतरिम राहत के लिए दिल्ली हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की सलाह दी थी. इसके अलावा चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने दिल्ली हाई कोर्ट की कार्यवाहक चीफ जस्टिस से उनके मामले को उचित बेंच को सौंपने का भी अनुरोध किया था, ताकि अगले दिन इस पर सुनवाई हो सके. फिलहाल कार्ति चिदंबरम सीबीआई की हिरासत में हैं, जिन्हें शुक्रवार को अदालत में पेश किया गया था. जांच एजेंसी के अनुरोध पर अदालत ने कार्ति चिदंबरम को एक बार फिर तीन दिन की सीबीआई हिरासत में भेज दिया है.

सीबीआई ने कार्ति चिदंबरम को फरवरी में चेन्नई एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया था. उनके खिलाफ यह मामला 2007 में आईएनएक्स मीडिया को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के लिए विदेश निवेश प्रोत्साहन बोर्ड (एफआईपीबी) से मंजूरी दिलाने के बदले पैसे लेने के आरोपों से जुड़ा है. उस समय पी चिदंबरम केंद्रीय वित्तमंत्री थे.