केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) ने पांच सितारा यानी फाइव स्टार होटलों को सुरक्षा परामर्श (सिक्योरिटी) कंसल्टेंसी देने का फैसला किया है. उसने यह घोषणा शुक्रवार को अपने 49वें स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर की. उसके मुताबिक इस योजना का खाका तैयार है और जल्दी ही इस बारे में देश भर के विभिन्न होटलों को लिखित प्रस्ताव दिया जाएगा. इस कवायद का मकसद होटलों को 26/11 जैसे आतंकी हमलों से निपटने के लिए तैयार करना है.

द टाइम्स आॅफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस योजना के तहत सीआईएसएफ का विशेष दल होटल के सुरक्षाकर्मियोंं को विपरीत स्थितियों से निपटने के लिए प्रशिक्षित करेगा. साथ ही होटल में सीसीटीवी कैमरों की लोकेशन से लेकर सुरक्षाकर्मियों की तैनाती और लोगों की आवाजाही पर पैनी नजर रखने जैसे दूसरे मुद्दों पर भी सलाह दी जाएगी. सलाह की सेवाओं के बदले यह अर्धसैनिक बल होटलों से चार-पांच लाख रुपये की फीस लेगा.

सीआईएसएफ ने कुछ समय पहले पांच सितारा होटलों को सुरक्षा मुहैया कराने से इनकार कर दिया था. उसका कहना था कि वह सुरक्षा परामर्श दे सकता है. बीते साल गुड़गांव के रायन स्कूल में सात वर्षीय बच्चे की हत्या के बाद इस सीआईएसएफ ने निजी स्कूलों को भी सुरक्षा सलाह देने का काम शुरू किया है. देहरादून स्थित दून स्कूल, ग्वालियर का सिंधिया स्कूल और दिल्ली स्थित भारतीय विद्या भवन कई स्कूल इस मुद्दे को लेकर उसके संपर्क में हैं.