अनैतिक तरीके से खरीदारी के आरोपों से घिरीं मॉरीशस की राष्ट्रपति अमीना गुरीब-फकीम को इस्तीफा देना पड़ेगा. अमीना पर आरोप है कि उन्होंने एक अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी संस्था (एनजीओ) की तरफ से जारी किए गए क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल अपने लिए कपड़े और गहने खरीदने में किया. शुक्रवार को मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जुगनॉथ ने जानकारी दी कि 12 मार्च को मॉरीशस की 50वीं वर्षगांठ के जश्न के बाद अमीना अपने पद से इस्तीफा दे देंगी.

2015 में मॉरीशस की पहली महिला राष्ट्रपति बनीं अमीना गुरीब-फकीम ने खुद पर लगे आरोपों से इनकार किया है. उनका कहना है कि उन्होंने एनजीओ का सारा पैसा वापस कर दिया था. सात मार्च को दिए अपने एक भाषण में उन्होंने कहा था, ‘मुझ पर किसी की देनदारी नहीं है. यह मुद्दा एक साल बाद क्यों उठाया जा रहा है.’

दरअसल, मॉरीशस के एक अखबार ने रिपोर्ट दी थी कि अमीना ने प्लेनेट अर्थ इंस्टीट्यूट नाम के एनजीओ द्वारा जारी किए गए क्रेडिट कार्ड से इटली और दुबई में खरीदारी की थी. यह संस्था शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए स्कॉलरशिप देती है. राष्ट्रपति अमीना ने इसमें अवैतनिक निदेशक के रूप में काम किया था. इस बारे में एनजीओ ने अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है.