शी जिनपिंग चीन के स्थायी राष्ट्रपति बन गए हैं. चीनी संसद नेशनल पीपल्स कांग्रेस ने उस संविधान संशोधन को मंजूरी दे दी है जिसमें राष्ट्रपति के लगातार दो कार्यकाल की अधिकतम सीमा को खत्म करने की बात कही गई है. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक रविवार को संसद में हुए गुप्त मतदान में 2,958 प्रतिनिधियों ने संशोधन के पक्ष में मतदान किया. जबकि दो प्रतिनिधियों ने विरोध में वोट डाला और तीन ने मतदान प्रक्रिया में हिस्सा नहीं लिया.

इस प्रस्ताव के पास होने के बाद अब ये तय हो गया है कि शी जिनपिंग 2023 में खत्म हो रहे अपने दूसरे कार्यकाल के बाद भी इस पद पर बने रहेंगे. यानी जिनपिंग चीनी क्रांति के जनक रहे माओ त्से तुंग के बाद चीन के दूसरे स्थायी राष्ट्रपति होंगे. माओ 1949 से 1976 में अपनी मृत्यु होने तक चीन के राष्ट्रपति रहे थे. लेकिन, माओ के तानाशाही रवैये से सबक लेकर चीन के सुधारवादी नेता डेंग ज़ियाओपिंग ने 1982 में राष्ट्रपति के लिए अधिकतम 10 साल के कार्यकाल का प्रावधान चीनी संविधान में जोड़ा था.