तमिलनाडु में थेनी जिले के एक जंगल में रविवार को आग लगने से वहां ट्रेकिंग पर गए 37 लोग फंस गए हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया ने बताया कि कुरंगनी नाम के जंगल में लगी इस आग पर काबू पाने की कोशिशें जारी हैं. शुरुआती रिपोर्टों में इस घटना में पांच लोगों की मौत की बात भी कही जा रही थी, लेकिन प्रशासन ने इससे इनकार किया है. उसके मुताबिक कुछ लोग आग से जख्मी हुए हैं और उन्हें निकालने के लिए बचाव अभियान चलाया जा रहा है.

मदुरै क्षेत्र के वन संरक्षक आरके जेगनिया का कहना है कि इन लोगों ने ट्रेकिंग से पहले वन विभाग से जरूरी इजाजत नहीं ली थी. वहीं, मुख्यमंत्री के पलानीसामी ने कहा कि सरकार बिना वन विभाग की अनुमति के हुई इस ट्रेकिंग की जांच के आदेश देगी.

उधर, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी ट्वीट कर बताया कि फंसे लोगों को बचाने के लिए अभियान जारी है. उनके मुताबिक आग में फंसे लोग छात्र हैं और उन्हें बचाने के लिए कोयंबटूर से दस कमांडो को भेजा गया है. उन्होंने यह भी बताया कि आग पर काबू पाने के लिए दो विमान भी भेजे गए हैं. मुख्यमंत्री पलानीसामी की अपील पर रक्षा मंत्री ने दक्षिणी क्षेत्र के अधिकारियों को सभी फंसे हुए छात्रों की मदद करने के आदेश दिए हैं.