‘अक्टूबर’ के ट्रेलर लॉन्च के दौरान इसकी स्टार कास्ट और निर्देशक के साथ स्क्रीन-राइटर जूही चतुर्वेदी भी मीडिया के सवालों का जवाब दे रहीं थीं. बातों-बातों में किसी ने उनसे बॉलीवुड में बायोपिक्स के बढ़ते चलन पर सवाल किया. इसका जवाब देते हुए जूही ने एक दिलचस्प बात कही - ‘अब तो वो वक्त आ गया है कि बच्चा पैदा होता है तो लोग उसे साइन कर लेते हैं. अगर जिंदगी में ये कुछ कर लेगा तो इस पर बायोपिक बना देंगे.’ जूही इस तंज के साथ यह बात स्वीकार करती हैं कि बायोपिक्स की गिनती बढ़ने का एकमात्र कारण कहानियों का अभाव है. साथ ही वे इसके लिए हर साल एक फिल्म बनाकर रिलीज कर देने की जल्दबाजी को भी दोषी ठहराती हैं. जूही ने जिस दम-खम के साथ यह बात कही है, वह कहां से आया इस बात का पता ‘अक्टूबर’ का ट्रेलर देखकर चल जाता है. जूही चतुर्वेदी इसके पहले ‘विकी डोनर’, ‘पीकू’, ‘मद्रास कैफे’ जैसी कमाल फिल्में लिख चुकी हैं. ‘पीकू’ के करीब तीन साल बाद उनकी यह फिल्म आ रही है जिसके बारे में वे कहती हैं कि ‘ऑरिजिनल कहानियां लिखने में वक्त तो लगता ही है.’

‘अक्टूबर’ के ट्रेलर की बात करें तो यह न सिर्फ एक अनसुनी कहानी का पता बताता है बल्कि कुछ अनदेखे से रंगों वाली रंगीन झलकियां भी दिखाता है. ट्रेलर बताता है कि यह दो लोगों की प्रेम कहानी ना होकर दो लोगों के बीच प्रेम के पनपने की कहानी है, यानी प्रेम की कहानी है. फिल्म के मुख्य किरदार होटल मैनेजमेंट स्टूडेंट्स, डैन और शिउली हैं. एक एक्सीडेंट कैसे इन दोनों की जिंदगी बदलता है और यह बदलाव किस तरह इन्हें प्यार और परवाह की सलाइयों पर जिंदगी बुनना सिखाता है, फिल्म यही दिखाने वाली है. कुछ दिल छू लेने संवादों के साथ गुदगुदा देने वाली ह्यूमरस बातें भी फिल्म का हिस्सा होने वाली हैं, ऐसा ट्रेलर कहता है.

फिल्म में डैन की भूमिका निभा रहे वरुण धवन ‘बदलापुर’ के बाद एक बार फिर कुछ कमाल कर सकते हैं, इस बात की पूरी उम्मीद ट्रेलर जगाता है. हालांकि वरुण अपनी ज्यादातर फिल्मों में रोमैंटिक हीरो की भूमिकाएं ही करते रहे हैं लेकिन इस बार वे कुछ अलग और गहरे उतरकर रोमांस करते दिख सकते हैं. इस बात की तस्दीक के लिए बस इतना बताना काफी है कि इस फिल्म के निर्देशक शुजित सरकार हैं. अनोखी कहानियां दिखाने के लिए मशहूर सरकार अपनी इस फिल्म में कच्ची उमर का पक्का रोमांस दिखाने वाले हैं. इसके लिए उन्होंने बतौर नायिका बनिता सिंधू को साइन किया है जो महज 18 साल की हैं. ट्रेलर में बनिता गिनती के ही शब्द बोलती हैं लेकिन उतने में बता देती हैं कि वे इस फिल्म में क्यों हैं. बेहद मासूम से चेहरे वाली ये एनआरआई अभिनेत्री इसके पहले वे कुछ विज्ञापन फिल्मों में नजर आ चुकी है, जो खासे लोकप्रिय भी हुए थे.

करीब ढाई मिनट का यह ट्रेलर अपनी दिलचस्प कहानी, ह्यूमरस डायलॉग और खूबसूरत फिल्मांकन की झलकियों से आपको लुभाता है. शुजित सरकार सहित इससे जुड़े बाकी नाम भी फिल्म से लगाई गई आपकी उम्मीदों का वजन बढ़ा देते हैं. कुल मिलाकर यह ट्रेलर वादा करता सा लगता है कि 13 अप्रैल को जब गर्मी का पारा चढ़ना शुरू होगा, तब यह फिल्म अक्टूबर जैसी गुनगुनी ठंडक लेकर आएगी जो सिनेमाघर में 18 डिग्री पर चल रहे एसी की कंपकंपी से भी आपको राहत दिला सकती है.

Play