दिल्ली हाई कोर्ट की जस्टिस इंदरमीत कौर ने कार्ति चिदंबरम की जमानत याचिका पर सुनवाई से खुद को अलग कर लिया है. हालांकि उन्होंने इसकी कोई वजह नहीं बताई है. द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार मंगलवार को जस्टिस इंदरमीत कौर ने कहा कि वे इस मामले को कार्यवाहक चीफ जस्टिस गीता मित्तल के पास भेज रही हैं, ताकि सुनवाई के लिए किसी दूसरी बेंच को सौंपा जा सके. सोमवार को दिल्ली स्थित केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने आईएनएक्स मीडिया मामले में कार्ति चिदंबरम को 24 मार्च तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था.

कार्ति चिदंबरम को सीबीआई ने फरवरी में चेन्नई एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया था. उनके खिलाफ यह मामला 2007 में आईएनएक्स मीडिया को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के लिए विदेश निवेश प्रोत्साहन बोर्ड (एफआईपीबी) से मंजूरी दिलाने के बदले पैसे लेने के आरोपों से जुड़ा है.

इस बीच मंगलवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्ररिंग मामले में कार्ति चिदंबरम को गिरफ्तारी से मिली राहत के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. इस पर 15 मार्च को सुनवाई होनी है. बीते हफ्ते दिल्ली हाई कोर्ट ने ईडी को कार्ति चिदंबरम की याचिका पर 20 मार्च को सुनवाई होने तक गिरफ्तार न करने का निर्देश दिया था. इस याचिका में कार्ति चिदंबरम ने कहा है कि सीबीआई द्वारा दर्ज की गई एफआईआर के आधार पर ईडी को उनकी गिरफ्तारी करने का अधिकार नहीं है.