छत्तीसगढ़ में नक्सली हमलों में तेजी देखी जा रही है. लगभग एक हफ्ते बाद मंगलवार को नक्सलियों के शक्तिशाली आईईडी धमाके की चपेट में आकर केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के नौ जवान शहीद हो गए. इसमें छह घायल हुए हैं, जिनमें से चार की हालत गंभीर बताई जा रही है. द हिंदू के मुताबिक नक्सलियों ने एक साथ तीन धमाके किए और फिर सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी.

इस बीच नक्सलरोधी अभियान के स्पेशल डीजी डीएम अवस्थी ने बताया है कि नक्सलियों ने एक गश्ती दल को आईईडी धमाके से निशाना बनाया, जो एंटी-लैंडमाइन वाहन के जरिए किश्तराम से पालोदी जा रहा था. उन्होंने कहा कि अतिरिक्त सुरक्षाबल मौके पर पहुंच चुके हैं और फायरिंग अभी रुक गई है. उधर, इस घटना पर केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शोक जताया है. उन्होंने बताया कि सीआरपीएफ के महानिदेशक को छत्तीसगढ़ जाने और हालात का जायजा लेने का निर्देश दिया गया है.

नक्सलियों ने बीते हफ्ते छत्तीसगढ़ के रोघाट इलाके में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की टीम को निशाना बनाया था, जिसमें दो जवान शहीद हो गए थे. इसके अलावा सुकमा जिले में एक पूर्व पुलिस कॉन्टेबल की भी गोली मारकर हत्या कर दी थी. खबरों के मुताबिक दंतेवाड़ा के पुकारी कांकेर इलाके में दो मार्च को छत्तीसगढ़ पुलिस और तेलंगाना पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में 12 नक्सलियों के मारे जाने के बाद से राज्य में नक्सली हमलों में तेजी आ गई है.