बीते कुछ महीनों से लगातार गलत वजहों से सुर्खियों में रही निजी विमानन कंपनी इंडिगो के साथ सोमवार को फिर एक हादसा हुआ. इंजन में खराबी आने से उसके एक विमान को अहमदाबाद हवाईअड्डे पर इमर्जेंसी लैंडिंग करनी पड़ी. इस घटना के बाद नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने गोएयर और इंडिगो की एयरबस 320 नीयो विमानों की उड़ान पर तुरंत प्रभाव से रोक लगा दी. मंगलवार को विमानों की कमी होने से इंडिगो को 47 जबकि गोएयर को अपनी 18 उड़ानें रद्द करनी पड़ीं.

इस मामले पर इंडिगो एयरलाइंस से जारी बयान में कहा गया है कि कुछ विमानों की उड़ान पर रोक लगने से उड़ानें रद्द करनी पड़ी हैं. उसने आगे कहा, ‘कंपनी समझती है कि इससे यात्रियों को असुविधा हो रही है. इसलिए दूसरी उड़ानों के जरिये उन्हें उनके गंतव्य तक पहुंचाने की कोशिश जारी है. यात्री चाहें तो टिकट रद्द करा सकते हैं. इसके बदले कंपनी उनसे कोई शुल्क नहीं लेगी. उन्हें टिकट का पूरा पैसा वापस किया जाएगा.’

विमानों की उड़ान पर रोक लगाए जाने पर पत्रकारों से बात करते हुए नागरिक विमानन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा है, ‘यात्रियों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है. इन दोनों विमानन कंपनियों के पास पीडब्ल्यू 1100 इंजन वाले विमान हैं जिन्हें असुरक्षित माना जा रहा है. इनकी तकनीकी जांच चल रही है. अगर वे सुरक्षित पाए जाएंगे तो उन्हें उड़ान की अनुमति दे दी जाएगी.’

घरेलू विमानन बाजार में इंडिगो की हिस्सेदारी 40 फीसदी है. देश के विभिन्न शहरों के लिए उसकी तरफ से रोजाना करीब 1000 उड़ानों का संचालन किया जाता है. इधर गोएयर के विमान हर रोज 230 उड़ानों के जरिये यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाते है. घरेलू बाजार में उसकी हिस्सेदारी 10 फीसदी है.