प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘कांग्रेस मुक्त भारत’ का नारा दिया और तेलंगाना ने इस पर अमल कर लिया. हालांकि वहां सिर्फ़ विधानसभा का बजट सत्र ही अभी ‘कांग्रेस मुक्त’ हुआ है. दरअसल राज्य विधानसभा में कांग्रेस के दो सदस्यों- कोमातिरेड्‌डी वेंकट रेड्‌डी और ए संपत कुमार की सदस्यता समाप्त कर दी गई है. जबकि पार्टी के बाकी 11 सदस्यों को पूरे बजट सत्र के लिए बाहर कर दिया गया है. इसके बाद यह स्थिति बनी है.

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक कांग्रेस विधायकों पर यह कार्रवाई मंगलवार को की गई. वह इसलिए क्योंकि कांग्रेस विधायकों ने इसी सोमवार को सदन में राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन के अभिभाषण के दौरान असंसदीय व्यवहार किया था. कोमातिरेड्‌डी ने राज्य विधायिका की संयुक्त बैठक के दौरान अपना हैडफोन निकालकर आसंदी की तरफ़ उछाल दिया था. इससे विधान परिषद के सभापति के स्वामी रेड्‌डी चोटिल भी हो गए थे.

इसी आधार पर मंगलवार सुबह विधानसभा की बैठक शुरू होते ही अध्यक्ष एस मधुसूदन चारी ने दोनों विधायकों की सदस्यता ख़त्म करने की घोषणा कर दी. बताया जाता है कि ऐसी कार्रवाई कांग्रेस के दो अन्य विधायकों पर भी की जा सकती है. अभी हालांकि उनके नाम सामने नहीं आए हैं. इस बीच ख़बर यह भी है निर्वाचन आयोग जल्द ही वेंकट रेड्‌डी और संपत की विधानसभा सीटें क्रमश: नलगोंडा और आलमपुर को रिक्त घोषित कर सकता है.