प्रसिद्ध भौतिक विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग दुनिया को अलविदा कह चुके हैं. इस महान वैज्ञानिक और असाधारण व्यक्ति ने ब्रह्मांड के बारे में अपने ज्ञान से दुनिया को हैरान किया. ब्लैक होल पर उनका काम सबसे उल्लेखनीय माना जाता है.

लेकिन स्टीफन हॉकिंग की पहचान एक महान वैज्ञानिक से ज्यादा थी. उन्होंने काम के साथ अपने जीवन संघर्ष से भी लोगों को प्रेरित किया. स्टीफन हॉकिंग को युवा उम्र में ही मोटर न्यूरॉन जैसी गंभीर बीमारी ने घेर लिया था. उनका शरीर लकवाग्रस्त हो गया था. लेकिन वे रुके नहीं. लगातार काम करते रहे. कंप्यूटर और आधुनिक उन्नत उपकरणों की मदद से दुनिया से संवाद करते रहे. वे केवल विज्ञान में अपने योगदान के लिए नहीं बल्कि संघर्षपूर्ण जीवन में डटे रहने की प्रेरणा के रूप में भी याद किए जाएंगे. इस महान वैज्ञानिक ने अपने काम के साथ अपने विचारों से भी दुनिया को प्रेरित किया

ब्रह्मांड पर 

अगर हम इसका जवाब ढूंढ लें कि ब्रह्मांड का वजूद क्या है तो यह हमारे इंसान होने की सबसे बड़ी जीत होगी. तब हम भगवान के दिमाग को समझ सकेंगे.  

ब्लैक होल पर 

आइंस्टाइन ने गलत कहा था कि भगवान पासे नहीं फेंकता. ब्लैक होल का विचार बताता है कि भगवान न सिर्फ पासे फेंकता बल्कि अक्सर उनसे हमें उलझाता भी है.  

डेली मिरर
डेली मिरर

भगवान पर 

आसमान में उजाला करने और ब्रह्मांड के चलने के लिए भगवान का आह्वान करना जरूरी नहीं है.  

डीपीए
डीपीए

प्रसिद्धि पर 

मेरे मशहूर होने का नकारात्मक पहलू यह है कि मैं बिना पहचाने दुनिया में कहीं और जा नहीं सकता. काला चश्मा पहनना और विग लगाना मेरे लिए काफी नहीं होगा. मेरी व्हीलचेयर मेरा भेद खोल देगी.  

बीमारी पर 

‘मैं जब 21 का था तभी मेरी सभी अपेक्षाएं शून्य हो गई थीं. उसके बाद से अब तक जो मिला वह बोनस है.’  

जिम कैम्बेल/एयरो न्यूज नेटवर्क
जिम कैम्बेल/एयरो न्यूज नेटवर्क

व्यावसायिक सफलता पर 

मैं अपनी किताबों को एयरपोर्ट के बुकस्टॉलों पर बिकते देखने चाहता हूं.  

गेटी इमेजिस
गेटी इमेजिस

अपूर्णता पर 

अपूर्णता के बिना न आप होते न मैं होता.  

गेटी इमेजिस
गेटी इमेजिस

इच्छामृत्यु पर

पीड़ित चाहता है तो उसे अपनी जिंदगी खत्म करने का अधिकार होना चाहिए. लेकिन मुझे लगता है ऐसा करना बहुत बड़ी गलती होगी. जीवन जैसा भी हो, उसमें कुछ न कुछ होता है जो आप कर सकते हैं और सफल हो सकते हैं. जब तक जीवन है तब तक उम्मीद है.  

तस्वीर : डैन वाइट/गॉनविले
तस्वीर : डैन वाइट/गॉनविले

बौद्धिकता पर

अपने आईक्यू (बौद्धिक स्तर) की शेखी बघारने वाले लोग लूजर (असफल व्यक्ति) होते हैं.  

द असोसिएटिड प्रेस
द असोसिएटिड प्रेस

एलियन और इंसानी संपर्क पर

मुझे लगता है इससे तबाही होगी. एलियन हमसे कहीं ज्यादा विकसित होंगे. पृथ्वी पर ज्यादा विकसित प्रजातियों का प्रारंभिक प्रजातियों से मिलने का इतिहास ज्यादा अच्छा नहीं है. 

हास्य-विनोद पर

अगर हम मजाकिया न रहें तो जीवन बड़ा दुखद होगा.  

मृत्यु पर

मैं पिछले 49 सालों से जल्दी मरने की आशंका के साथ जी रहा हूं. मैं मौत से नहीं डरता, लेकिन मुझे मरने की जल्दी भी नहीं है. अभी मुझे बहुत कुछ करना है.