उत्तर प्रदेश की दो और बिहार की एक लोक सभा सीट पर हुए उपचुनाव में भाजपा की हार की खबर आज सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियां बटोर रही है. उत्तर प्रदेश की दोनों सीटें – फूलपुर और गोरखपुर जहां समाजवादी पार्टी के खाते में गई हैं तो वहीं बिहार की अररिया सीट पर राष्ट्रीय जनता दल के उम्मीदवार को जीत मिली है. सोशल मीडिया पर इन नतीजों की अलग-अलग तरह से व्याख्या की जा रही है. पत्रकार और लेखक सुधींद्र कुलकर्णी का ट्वीट है, ‘यह अंत की शुरुआत है!... 2014 की लहर 2019 में 180 डिग्री से पलट जाएगी.’ वरिष्ठ पत्रकार प्रिया सहगल का कहना है, ‘उस समय जबकि भाजपा उत्तर-पूर्वी भारत जैसे नए क्षेत्रों में अपनी पहुंच बना रही है, वहीं अपने गढ़ कहलाने वाले क्षेत्रों में पकड़ खो रही है. मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और बिहार के उपचुनाव का यह एक स्पष्ट संदेश है.’

उत्तर प्रदेश में दोनों सीटों पर काग्रेस प्रत्याशियों की जमानत जब्त हुई है. इस हवाले से सोशल मीडिया में कांग्रेस पर खूब मजेदार टिप्पणियां आई हैं. आर्थिक मामलों के जानकार और व्यंग्यकार आलोक पुराणिक का ट्वीट है, ‘…खुद साफ होकर सपा-बसपा की जीत में कांग्रेस खुश है. दिल भर आया, दूसरों की खुशी में खुश होने का भारतीय संस्कार अभी गया नहीं है.’

इन उपचुनावों में भी गोरखपुर लोकसभा सीट के नतीजों की सबसे ज्यादा चर्चा हुई है. भाजपा का गढ़ कही जाने वाली यह सीट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस्तीफे की वजह से खाली हुई थी. यहां भाजपा की हार की चर्चा करते हुए आदित्यनाथ विरोधियों ने उन्हें जमकर निशाना बनाया है. बीते साल गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में दर्जनों बच्चों की मौत के मामले का जिक्र करते हुए ट्विटर हैंडल @mahrukhinayet पर प्रतिक्रिया आई है, ‘बच्चे मरे और उन्हें कई फर्क नहीं पड़ा. लेकिन जनता इसे नहीं भूली.’ सुयश सुप्रभ की फेसबुक पोस्ट है, ‘गोरखपुर के बच्चे बोल नहीं पाए थे. वोट बोल रहे हैं. शुक्र है देश में श्मशान की शांति नहीं है.’

सोशल मीडिया में उपचुनाव के इन नतीजों पर आई कुछ और प्रतिक्रियाएं :

हृदयेश जोशी | @hridayeshjoshi

बीजेपी की यूपी उपचुनावों में हुई हार पर मोदी विरोधी खुश न हों.. मोदी जी ने योगी जी के पर कतरने के लिये उन्हें गोरखपुर में हराया और योगी जी ने यही खेल फूलपुर में अपने साथी केशव प्रसाद मौर्या के साथ कर दिया. ये नतीजे लोकसभा चुनाव के रुझान नहीं बताते.

कीर्ती | @TheDesiEdge

काश सिर्फ गायों को वोट देने का अधिकार होता!

धर्मेंद्र पंवार | @dharmesh565

ईवीएम से छेड़छाड़ सिर्फ युद्ध में की जाती है, छोटी लड़ाइयों में नहीं – श्रीमान शाह

आशीष भारद्वाज | facebook/ashish.bhardwaj1

गोरखपुर को अब सही मायने में ‘स्मार्ट सिटी’ का दर्जा मिलना चाहिये. शहर लोगों से स्मार्ट बनता है, लुक से नहीं!

अक्षय कुमार | @AkshayKumarFC18

भाजपा अब नरेश अग्रवाल को पार्टी से निकालकर, उन दोनों सपा प्रत्याशियों को पार्टी में शामिल कर ले जो गोरखपुर और फूलपुर से चुनाव जीते हैं.