हरियाणा भी छोटी बच्चियों के साथ बलात्कार के दोषियों के लिए फांसी की सजा का प्रावधान बनाने वाला राज्य बन गया है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार गुरुवार को हरियाणा विधानसभा ने 12 साल या इससे कम आयु की लड़कियों के साथ बलात्कार के दोषियों को मौत की सजा का प्रावधान करने वाले संशोधन विधेयक को सर्वसम्मति से पारित कर दिया. इस पर सभी विधायकों का आभार जताते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि यह विधेयक लड़कियों की सुरक्षा में मील का पत्थर साबित होगा. इससे पहले राजस्थान और मध्य प्रदेश भी ऐसा कानून बना चुके हैं.

हरियाणा विधानसभा से पारित इस विधेयक में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा-376 (बलात्कार), धारा-354 (शीलभंग) और धारा-354डी(2) (पीछा करना) में संशोधन करने का प्रावधान है. इससे पहले खट्टर सरकार ने 12 साल या इससे कम आयु की बच्चियों के साथ बलात्कार के दोषियों के लिए मौत की सजा या कम से कम 14 साल के सश्रम कारावास का प्रस्ताव पारित किया था. इसी साल जनवरी में हरियाणा में 10 दिन के भीतर बलात्कार की 10 घटनाएं सामने आई थीं. इसके बाद महिलाओं की सुरक्षा को लेकर राज्य की मनोहर लाल खट्टर सरकार को तीखी आलोचना का सामना करना पड़ा था.