केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की रांची स्थित विशेष अदालत ने चारा घोटाले के दुमका कोषागार मामले में भी राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को दोषी ठहराया है. खबरों के मुताबिक अदालत ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा को इस मामले में बरी कर दिया है. यह मामला दुमका कोषगार से 3.13 करोड़ रुपये की अवैध निकासी से जुड़ा है. इसमें लालू प्रसाद यादव के अलावा 14 अन्य लोगों को दोषी ठहराया गया है.

चारा घोटाले से जुड़ा यह चौथा मामला है, जिसमें राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को दोषी ठहराया गया है. दुमका कोषागार मामले में बीते शुक्रवार को ही फैसला आना था. लेकिन अदालत ने पहले इसे शनिवार के लिए और फिर सोमवार तक के लिए टाल दिया था. खबरों के मुताबिक शनिवार को बिरसा मुंडा जेल में लालू प्रसाद यादव की तबियत खराब हो गई थी. इसके बाद उन्हें रांची स्थित राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (रिम्स) में भर्ती कराया गया था.

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को इससे पहले चारा घोटाले से जुड़े देवघर कोषागार मामले में साढ़े तीन साल, जबकि चाईबासा कोषागार मामले में पांच साल की सजा सुनाई जा चुकी है. चाईबासा मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र को भी पांच साल की सजा मिली है. हालांकि, देवघर मामले में उन्हें बरी कर दिया गया था. इसके अलावा चारा घोटाले से जुड़े एक अन्य मामले में भी लालू प्रसाद यादव और जगन्नाथ मिश्रा को पांच-पांच साल की सजा सुनाई जा चुकी है.