दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के प्रोफेसर अतुल जौहरी को यौन उत्पीड़न मामले में पटियाला हाउस कोर्ट ने जमानत दे दी है. मंगलवार को दिल्ली पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया था और 14 दिन की पुलिस हिरासत की मांग की थी. प्रोफेसर अतुल जौहरी पर यौन उत्पीड़न के आठ मामले दर्ज हैं. सोमवार को उनकी गिरफ्तारी की मांग को लेकर छात्रों ने वसंत कुंज थाने पर प्रदर्शन भी किया था.

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर अजय चौधरी ने बताया है कि अतुल जौहरी के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायत करने वाली लड़कियों के बयान दर्ज कर लिए गए हैं. उन्होंने यह भी बताया कि जेएनयू की कुछ और लड़कियों ने भी अतुल जौहरी के खिलाफ ऐसे ही आरोप लगाए हैं, जिनकी जांच की जा रही है.

छात्राओं के एक समूह ने प्रोफेसर अतुल जौहरी पर लंबे समय से यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया था. एक छात्रा के बयान के मुताबिक, ‘प्रोफेसर अक्सर दोहरे अर्थों वाली आपत्तिजनक टिप्पणियां करते थे, यौन संबंध बनाने के लिए खुले तौर पर मांग करने के अलावा लगभग सभी लड़कियों की शारीरिक बनावट को लेकर टिप्पणी करते थे. अगर कोई लड़की विरोध करती तो उसके खिलाफ विद्वेष के साथ काम करते थे.’ उधर, इन आरोपों को खारिज करते हुए प्रोफेसर अतुल जौहरी ने खुद को राजनीति का शिकार बताया है.