अटकलें सही साबित हुईं. उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग समेत कई चीनी अधिकारियों से मिलने के लिए चीन पहुंचे हैं. बताया जा रहा है कि किम जोंग उन सोमवार को चीन पहुंचे थे. उनके साथ उनकी पत्नी री सोल जू और वरिष्ठ सलाहाकारों की टीम भी है.

किम जोंग उन को ट्रेन में सफर करना पसंद है. वे विदेशी दौरे बहुत कम करते हैं. लेकिन जब भी करते हैं, ज्यादातर ट्रेन से जाते हैं. उत्तर कोरिया की सत्ता संभालने के बाद यह उनका पहला अंतरराष्ट्रीय दौरा है. किम के चीन पहुंचने के तीन बाद वहां की सरकारी न्यूज एजेंसी ने बयान जारी किया है. बयान में कहा गया है, ‘राष्ट्रपति शी जिनपिंग के निमंत्रण पर उत्तर कोरिया के विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष किम जोंग उन रविवार से बुधवार तक चीन के अनौपचारिक दौरे पर हैं.’

बताया जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच कोरियाई प्रायद्वीप के संकट और हथियार कार्यक्रम को रोकने के लिए उत्तर कोरिया पर दबाव बनाए जाने से पैदा हुए वैश्विक संकट को लेकर बातचीत हुई. किम ने कहा कि उत्तर कोरिया की तरफ से संकट कम करने और हथियार कार्यक्रम रोकने से संबंधित प्रस्ताव रखने के बाद कोरियाई प्रायद्वीप में हालात बेहतर हो रहे हैं. किम ने चीनी राष्ट्रपति से यह भी कहा कि वे अमेरिका से बातचीत के लिए तैयार हैं.

खबर के मुताबिक किम ने कहा, ‘अगर दक्षिण कोरिया और अमेरिका हमारे प्रयासों पर सद्भावना के साथ प्रतिक्रिया दें और शांति स्थापित करने के लिए प्रगतिशील कदम उठाएं तो परमाणु हथियार खत्म किए जाने का मुद्दा हल हो सकता है.’ किम जोंग उन के इस दौरे को लेकर कहा जा रहा है कि यह दक्षिण कोरिया और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात करने से पहले अपने सभी मित्र देशों से बातचीत करने का प्रयास हो सकता है.