केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की दसवीं और बारहवीं की परीक्षा में पेपर लीक होने की घटना को केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं बच्चों और उनके माता-पिता का दर्द अच्छी तरह समझ सकता हूं. मैं खुद एक पिता हूं. इस मुद्दे को लेकर मैं तनाव में हूं और इसी वजह से कल रात मैं सो भी नहीं सका.’ इस मामले में जावड़ेकर ने किसी संगठित गिरोह का हाथ होने की आशंका भी जताई है. इसके साथ ही उन्होंने दोषियों को जल्दी ही सलाखों के पीछे करने का विश्वास दिलाया है.

उन्होंने आगे कहा कि पेपर लीक के मामले की जांच दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा को सौंपी गई है. बुधवार को इसकी टीम ने 25 से भी ज्यादा लोगों से पूछताछ की. इनमें सुरक्षागार्ड के अलावा कोचिंग संस्थान के अधिकारी और आपराधिक समूहों के लोग शामिल थे. इस मामले में बुधवार को देर रात तक पुलिस ने करीब दस जगहों पर छापामारी भी की है.

इससे पहले बुधवार को सीबीएसई ने दसवीं के गणित और बारहवीं के इकोनॉमिक्स का पेपर दोबारा कराने का ऐलान किया था. इस बारे में केंद्रीय मंत्री ने कहा है कि यह फैसला इस परीक्षा की निष्पक्षता बनाए रखने के लिए किया गया है. बोर्ड चाहता है कि हर बच्चे को बराबरी का मौका मिले और किसी के साथ पक्षपात न हो.