केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई के लीक हुए पेपर दोबारा होंगे. शुक्रवार को केंद्रीय शिक्षा सचिव अनिल स्वरूपने कहा कि 12वीं के अर्थशास्त्र का पेपर 25 अप्रैल को होगा जबकि 10वीं के गणित का पेपर जुलाई में हो सकता है. उनके मुताबिक अगर गणित का पेपर दोबारा हुआ तो यह सिर्फ हरियाणा और दिल्ली के छात्रों के लिए होगा. उसके मुताबिक इस बारे में आखिरी फैसला अगले 15 दिन में ले लिया जाएगा. अनिल स्वरूप का यह भी कहना था कि दोबारा होने वाली परीक्षा में देश के बाहर के छात्र नहीं बैठ सकेंगे. ये दोनों पेपर इसी हफ्ते सोमवार और बुधवार को हुए थे.

वार्ता के दौरान शिक्षा सचिव ने भी पेपर लीक की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया. उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच के लिए दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ग​ठित की है. गुरुवार को कई लोगों से पूछताछ के साथ उसने कई जगहों पर छापेमारी भी की. उन्होंने विश्वास दिलाया कि मामले के दोषियों को जल्दी ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

इस दौरान शुक्रवार को दिल्ली में उद्योग भवन और सीबीएसई मुख्यालय के सामने कई छात्र-छात्राएं और उनके परिवार वाले जमा हुए. यहां उन्होंने इस मामले पर विरोध जताया. बोर्ड परीक्षा दे रहे बच्चों के माता-पिता का कहना था कि इस साल मीडिया में पेपर लीक होने की कई खबरें आई हैं. ऐसे में सिर्फ दो पेपर ही नहीं बल्कि परीक्षा की पूरी प्रक्रिया को दोहराए जाने की जरूरत है. मामले पर विरोध-प्रदर्शन को जोर पकड़ता देख केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के घर पर धारा 144 घाषित कर दी गई. इस बीच दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने परीक्षा प्रणाली को मजबूत करने की बात कही. इस मुद्दे को संवेदनशील बताते हुए उन्होंने इस पर गंभीर चर्चा कराने की जरूरत बताई है.

इससे पहले इस मामले में ही शुक्रवार को झारखंड पुलिस ने छह संदिग्ध छात्रों को हिरासत में लिया. इसके अलावा जांच को आगे बढ़ाते हुए एसआईटी ने आईटी कंपनी गूगल से भी मदद मांगी है. दिल्ली पुलिस ने गूगल से उस ई-मेल आईडी से जुड़ी जानकारी मांगी है जिससे सीबीएसई की अध्यक्ष को पेपर लीक के बारे में मेल भेजी गई थी. उस ईमेल में लीक पर्चे की फोटो भी शामिल थी.