निजी विमानन कंपनी स्पाइसजेट की उड़ान दल की महिला कर्मचारियोंं ने कंपनी पर गंभीर आरोप लगाए हैं. कंपनी की एयरहोस्टेसों का कहना है कि हाल ही में यात्रा की समाप्ति पर विमान से उतरने के बाद उनकी कपड़े उतरवाकर सुरक्षा जांच की गई है. कुछ एयरहोस्टेस ने यह भी कहा कि कंपनी को लगता है कि उड़ान के दौरान वे यात्रियों को सामान बेचकर पैसा कमाती हैं. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस बात से नाराज उड़ान दल कि महिला सदस्यों ने शनिवार को विरोध प्रदर्शन भी किया.

इधर स्पाइसजेट ने इन आरोपों का खंडन किया है. इस बारे में स्पाइसजेट प्रबंधन का कहना है कि देश के कुछ हवाईअड्डों पर उड़ान दल के सदस्यों की 28-29 मार्च की रात सुरक्षा जांच की गई थी. कंपनी के मुताबिक यह जांच मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का हिस्सा थी. विमानन कंपनी के प्रवक्ता के मुताबिक समय-समय पर पहले भी ऐसी जांच होती रही हैं. अचानक की जाने वाली ऐसी जांच से कंपनी आश्वस्त होना चाहती है कि कहीं उसका कोई कर्मचारी गैर कानूनी गतिविधि में तो शामिल नहीं है. यह प्रक्रिया देसी ही नहीं बल्कि विदेशी विमानन कंपनियां भी अपनाती हैं.

हालांकि कंपनी की कुछ एयरहोस्टेसों ने सुरक्षाकर्मियों द्वारा उन्हें गलत ढंग से छूने और उनके निजी सामान को भी जांचने का आरोप लगाया है. इस पर कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि सुरक्षा जांच के दौरान नियमों का पालन करते हुए एहतियात बरती जाती है. महिला कर्मियों की जांच सिर्फ महिलाकर्मी ही करती हैं. साथ ही यह जांच हवाईअड्डों पर सुरक्षित बंद कमरों में की जाती है.