रिलायंस जियो ने अपने ग्राहकों को एक बार फिर बड़ा तोहफा दिया है. कंपनी ने जियो प्राइम मेंबरशिप को एक साल के लिए बढ़ा दिया है. कंपनी के मुताबिक 31 मार्च 2018 तक जो भी जियो प्राइम का मेंबर या सदस्य है उसे अगले एक साल तक बिना कोई शुल्क चुकाए इस विशेष योजना फायदा मिलता रहेगा. हालांकि, नए जियो ग्राहकों को इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए 99 रुपये सालाना खर्च करने होंगे.

1 अप्रैल 2017 को शुरू हुई जियो प्राइम की मेंबरशिप 31 मार्च 2018 को खत्म हो रही थी. इस योजना के तहत 99 रुपए में ग्राहकों को कई तरह की विशेष सुविधाएं दी जाती हैं जिनमें फ्री वॉइस कॉल, एसएमएस और 4जी डेटा जैसी सुविधाएं प्रमुख हैं.

मोज़िला फायरफॉक्स का यह नया फीचर आपको फेसबुक की सेंधमारी से निजात दिला सकता है

फेसबुक की सेंधमारी से लोगों को बचाने के लिए तकनीक से जुड़ी कंपनियों ने भी कवायद शुरू कर दी है. वेब ब्राउज़र बनाने वाली कम्पनी मोज़िला ने अपने चर्चित फायरफॉक्स ब्राउज़र में एक नया सिक्योरिटी फीचर जोड़ा है. इसके तहत कंपनी ने ‘फेसबुक कंटेनर’ नाम से एक एक्सटेंशन लांच किया है जो ब्राउज़र पर फेसबुक को काफी हद तक सीमित कर देगा और इसके बाद फेसबुक यूजर की अन्य गतिविधियों पर नजर नहीं रख सकेगा.

दरअसल, फेसबुक किसी भी वेब ब्राउज़र पर अपने यूजर की लगभग सभी गतिविधियों को ट्रैक करता है और विज्ञापन के उद्देश्य से यह जानकारी कम्पनियों को देता है. इसके बाद ये कंपनियां उस यूजर को फेसबुक पर उस जानकारी से संबंधित विज्ञापन दिखाने लगती हैं. हाल ही में फेसबुक-कैंब्रिज एनालिटिका मामले में हुए खुलासे में भी यह बात सामने आई है.

मोज़िला की इस नई एक्सटेंशन की सुविधा लेने के लिए किसी यूजर को सबसे पहले मोज़िला फायरफॉक्स ब्राउज़र डाउनलोड करना होगा. इसके बाद उसे यह एक्सटेंशन अपने ब्राउज़र में जोड़ना होगा. इसके बाद यह एक्सटेंशन ब्राउज़र में पहले से सेव फेसबुक से संबंधित डाटा या कुकीज़ को डिलीट कर देगा जिसके बाद फेसबुक अपने आप लॉगआउट हो जाएगा. जब यूजर दोबारा फेसबुक लॉग-इन करेगा तो उसकी फेसबुक प्रोफाइल एक नीले रंग की ‘कंटेनर’ टैब में खुलेगी. जैसा कंपनी का दावा है - यह ‘कंटेनर’ टैब फेसबुक को यूजर द्वारा की जा रही अन्य गतिविधियों से दूर रखेगा. (विस्तार से)

फेसबुक अधिकारी का पत्र लीक, कहा - कंपनी की तरक्की के लिए हम जो भी करें ठीक है

फेसबुक की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. कैम्ब्रिज एनालिटिका से जुड़े खुलासे के बाद अब कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट एंड्र्यू बॉसवर्थ का एक पत्र सामने आया है जिसमें वे अपने कर्मचारियों से कंपनी की कामयाबी के लिए कुछ भी करने की बात कह रहे हैं.

तकनीक से जुड़ी खबरें देने वाली वेबसाइट द वर्ज के मुताबिक एंड्र्यू बॉसवर्थ ने ‘द अग्ली’ शीर्षक से अपने कर्मचारियों को यह पत्र 18 जून 2016 को लिखा था. इस पत्र में उन्होंने लिखा है, ‘हम लोगों को आपस में जोड़ने का काम करते हैं. इसलिए हम अपनी प्रगति के लिए जो भी कर रहे हैं वह न्यायसंगत है... अगर लोग इसे नकारात्मक बनाते हैं तो यह बुरा है. शायद यह दूसरों की गलत हरकतों को उजागर करके उनकी जिंदगी खतरे में डाल सकता है. शायद हमारे टूल्स की वजह से कोई आतंकी हमले में अपनी जान भी गंवा सकता है.’

बॉसवर्थ पत्र में आगे लिखते हैं, ‘ऐसा होने के बावजूद हम लोगों को आपस में जोड़ने के लिए अपनी कवायद जारी रखेंगे. एक बुरा या अनचाहा सच यह है कि हम लोगों को जोड़ने में इतना ज्यादा यकीन रखते हैं कि इसके लिए हमें जो भी करना होगा, वह वास्तव में अच्छा ही होगा.’

उधर, इस पत्र के सामने आने के बाद बॉसवर्थ ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है, ‘मैं इस पत्र में लिखी गई बातों से न आज सहमत हूं और न ही इसे लिखते समय सहमत था. इसे लिखे जाने का मकसद ऐसे मुद्दों को सतह पर लाना था, जिनके बारे में मुझे लगता था कि उन्हें सतह पर लाना चाहिए. उनके बारे में बातचीत होनी चाहिए...क्योंकि ऐसा करने से ही हम बेहतर करने के लिए टूल्स बना पाते हैं.’