चीन के अंतरिक्ष स्टेशन तियांगोंग-1 के दक्षिणी प्रशांत महासागर में गिरने की खबर है. चीन की तरफ से यह जानकारी दी गई है. खबर के मुताबिक आज सुबह प्रशांत महासागर के आसमान में चीनी अंतरिक्ष स्टेशन का अधिकतर हिस्सा नष्ट हो गया. स्टेशन के गिरने से किसी तरह के नुकसान की जानकारी नहीं है.

चीन के अंतरिक्ष अधिकारियों ने पहले से बताया था कि अंतरिक्ष स्टेशन से पृथ्वी पर किसी भी तरह का नुकसान नहीं होगा. हालांकि उनका यह भी कहना था कि स्टेशन के पृथ्वी के वायुमंडल में दोबारा प्रवेश करने से पहले यह बता पाना मुश्किल है कि यह कहां गिरेगा. स्टेशन के गिरने की लोकेशन को लेकर दुनिया भर में डर बना हुआ था. वैसे चीन ने बताया था कि तियांगोंग-1 वायुमंडल में ही जल जाएगा और इससे धरती पर किसी तरह के नुकसान होने की संभावना काफी कम है. वहीं, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने संकेत दिया था कि तियोंगोंग-1 के समुद्र में गिरने की संभावना है. उसका अनुमान सही साबित हुआ.

तियोंगोंग-1 को सितंबर 2011 में अंतरिक्ष में स्थापित किया गया था. अंतरिक्ष में अपना अंतरिक्ष स्टेशन बनाने की मुहिम के तहत चीन का यह बहुत महत्वपूर्ण प्रयास था. इसे केवल दो साल के लिए अंतरिक्ष में स्थापित किया गया था लेकिन यह काफी समय तक काम करता रहा. इस दौरान कई बार चीनी अंतरिक्ष यात्री इस स्टेशन पर रुके.