बोर्ड परीक्षाओं के पेपर लीक होने के मामले में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा को बड़ी कामयाबी मिली है. अपराध शाखा के जांच दल ने रविवार को दिल्ली के बवाना इलाके से तीन शिक्षकों को गिरफ्तार किया है. द टाइम्स आॅफ इंडिया के मुताबिक रोहित और ऋषभ नाम के दो शिक्षक बवाना के ही एक निजी स्कूल में पढ़ाते हैं जबकि तौकीर नाम का तीसरा शिक्षक इसी इलाके में एक कोचिंग इंस्टीट्यूट चलाता है. पुलिस ने इन तीनों को 12वीं के इकनॉमिक्स का पेपर लीक करने के आरोप में पकड़ा है.

पुलिस के मुताबिक रोहित और ऋषभ ने प्रश्न पत्रों के लिफाफे को तय वक्त से आधा घंटा पहले खोल दिया था और फिर पेपरों की फोटो खींचकर उन्हें तौकीर को भेजा था. इसके बाद तौकीर ने पेपर देने वाले बच्चों तक इसे आगे बढ़ाने का काम किया था. अपराध शाखा के विशेष आयुक्त आरपी उपाध्याय ने कहा कि गिरफ्तारी के बाद तीनों आरोपितों को कोर्ट के सामने पेश किया गया है और कोर्ट ने उनसे दो दिन तक पूछताछ की अनुमति दे दी है. उन्होंने आगे कहा कि शक के आधार पर दो और लोग भी पकड़े गए हैं. अब तक इस मामले में दर्जन भर लोगों से पूछताछ की जा चुकी है.

इधर रविवार को मामले में तीन गिरफ्तारियों के बाद केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने भी अपने एक अधिकारी निलंबित कर दिया. निलंबित अधिकारी को उसी स्कूल में तैनात किया गया था जहां पेपर लीक की यह घटना हुई थी. केंद्रीय शिक्षा सविच अनिल स्वरूप ने कहा है कि केएस राणा नाम के इस अधिकारी को काम में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित किया गया है.