दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने अब केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली से भी माफ़ी मांग ली है. उनके साथ आप के तीन अन्य नेताओं- संजय सिंह, राघव चड्‌ढ़ा और आशुतोष ने भी जेटली से माफ़ी मांगी है. केजरीवाल और आप के अन्य नेता इससे पहले पंजाब के पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल से भी माफ़ी मांग चुके हैं.

सूत्रों के हवाले से समाचार एजेंसी एएनआई ने बताया है कि इस माफ़ीनामे के बाद जेटली-केजरीवाल तथा अन्य की ओर से एक संयुक्त याचिका भी अदालत में दायर की जा रही है. इसमें केजरीवाल व उनके साथियों पर दायर मानहानि का मुक़दमा वापस लेने की अदालत से अपील की जा सकती है. बता दें कि केजरीवाल और उनके साथियों ने जेटली पर आरोप लगाया था कि वे जब डीडीसीए (दिल्ली जिला क्रिकेट एसोसिएशन) के प्रमुख थे तब बड़े पैमाने पर वित्तीय अनियमितताएं हुई. इन आरोपों को झूठा और निराधार बताते हुए केजरीवाल और उनके साथियों पर जेटली ने 10 करोड़ रुपए की मानहानि का मुक़दमा ठोक दिया था. अब केजरीवाल इसी मामले को ख़त्म करना चाहते हैं.

बताया जाता है कि मामला निपटाने के लिए केजरीवाला और उनके साथियों ने जो लिखित माफ़ीनामा दिया है उसमें लिखा है, ‘मुझे कुछ लोगों ने सूचनाएं और दस्तावेज मुहैया कराए थे. ये सब डीडीसीए के आंतरिक मामलों से संबंधित थे. इन्हीं के आधार पर मैंने आपके (जेटली के) ख़िलाफ़ आरोप लगाए. हालांकि अभी मुझे पता चला है कि उन दस्तावेज़ों दर्ज़ जानकारी पूरी तरह सही नहीं थी. मुझे भी ग़लत जानकारियां दी गई थीं. इसलिए मैं आपके ख़िलाफ़ लगाए गए सभी आरोप वापस लेता हूं. मेरे आरोपों की वज़ह से आप और आपके परिवार को जो प्रतिष्ठा की हानि हुई है, जो चोट पहुंची है उसके लिए दिल से क्षमा मांगता हूं. अपेक्षा करता हूं कि इसके बाद हमारे बीच कानूनी लड़ाई ख़त्म हो जाएगी.’