‘देश और समाज को दलितों के साथ खड़े होना चाहिए, क्योंकि वे पीढ़ियों से दबे हुए हैं.’

— के चंद्रशेखर राव, तेलंगाना के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव का यह बयान एससी-एसटी एक्ट के मुद्दे पर सोमवार को भारत बंद के दौरान दलितों पर हमले की निंदा करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘दलितों को लगता है कि सुप्रीम कोर्ट का हालिया फैसला उनकी सुरक्षा के लिए बने कानून को कमजोर करता है. अदालत को दलितों की भावना और पीड़ा को संज्ञान में लेना चाहिए.’ के चंद्रशेखर राव ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस से बात करनी चाहिए और उन्हें बताना चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट का नया निर्देश कैसे एससी-एसटी कानून को कमजोर बना रहा है.

‘अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महसूस कर रहे होंगे कि नफरत, लाठी, भाषण और झूठे वादों से देश नहीं चलाया जा सकता.’

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का यह बयान भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर निशाना साधते हुए आया. कर्नाटक में उन्होंने कहा, ‘ऐसा लगता है कि आरएसएस ने उन्हें (नरेंद्र मोदी) नेकर पहना, लाठी लेकर खड़े होना और झूठ बोलना ही सिखाया है.’ दलित उत्पीड़न की घटनाओं का उल्लेख करते हुए राहुल गांधी ने पूछा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऐसी तमाम घटनाओं पर कभी कुछ बोलते क्यों नहीं? चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की भारत यात्रा के दौरान झूला झूलने पर तंज करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि चीन डोकलाम में सड़कें और एयरपोर्ट बना रहा है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अभी भी झूला ही झूल रहे हैं.


‘हम लिंगायत और वीरशैव समुदाय को अलग नहीं होने देंगे.’

— अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का यह बयान लिंगायतों को अल्पसंख्यक दर्जा देने की सिद्धारमैया सरकार की सिफारिश पर आया. वीरशैव संतों से मुलाकात के दौरान उन्होंने कहा, ‘हम धर्म को राजनीति के लिए इस्तेमाल नहीं होने देंगे.’ कांग्रेस पर निशाना साधते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने ट्विटर पर लिखा कि यह वही कांग्रेस है, जिसने सेंट्रल हॉल में डॉ बीआर अंबेडकर की तस्वीर नहीं लगने दी और उन्हें भारत रत्न नहीं दिया. अमित शाह ने आगे कहा कि चुनाव आने पर दलितों को वोट बैंक समझने वाले आरक्षण को लेकर भ्रम फैलाने लगते हैं. भाजपा अध्यक्ष के मुताबिक भाजपा के रहते कोई भी दल दलितों के हितों को नुकसान नहीं पहुंचा सकता है.


‘पीएनबी में घोटाले के दौरान भारतीय रिजर्व बैंक ने सही से ऑडिट नहीं किया था.’

— केवी चौधरी, केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (सीवीसी)

सीवीसी केवी चौधरी का यह बयान पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में 13,700 करोड़ रुपये की जालसाजी के मुद्दे पर आया. उन्होंने कहा कि आरबीआई के पास बैंकिंग क्षेत्र की नियामकीय जिम्मेदारी है, लेकिन गड़बड़ियां केंद्रीय सतर्कता आयोग को देखनी होती हैं. केवी चौधरी ने आगे कहा, ‘आरबीआई की जोखिम आधारित ऑडिट करने की नीति अच्छी है. लेकिन वे जोखिम जांचने का पैमाना कैसे तय करते हैं...ऐसे घोटाले सामने क्यों नहीं आए, इस पर सोचने की जरूरत है.’ सीवीसी के मुताबिक बैकिंग कारोबार सही से चल रहा है या नहीं, यह देखने की प्राथमिक जिम्मेदारी बैंकों की ही है.


‘फिलिस्तीन और इजरायल को अपने-अपने क्षेत्रों में शांति से रहने का हक है.’

— मोहम्मद बिन सलमान अल सौद, सऊदी अरब के युवराज

सऊदी युवराज मोहम्मद बिल सलमान अल सौद का यह बयान इजरायल को लेकर अपने देश के रुख में नरमी का संकेत देते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘स्थिरता और सभी के साथ संबंधों को सामान्य बनाने के लिए हमें शांति समझौता करना होगा.’ मोहम्मद बिल सलमान अल सौद ने आगे कहा कि सऊदी अरब की चिंता येरुशलम में पवित्र मस्जिद के भविष्य और फिलिस्तीनियों के अधिकारों को लेकर है, बाकि लोगों से कोई शिकायत नहीं है. इजराइल से रिश्तों को लेकर सऊदी अरब के युवराज ने कहा कि दोनों देशों के बीच बहुत से साझा हित हैं. सऊदी अरब ने बीते महीने पहली बार इजराइल के लिए नागरिक विमानों को अपने वायु क्षेत्र से गुजरने की छूट दी है.