प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉ बीआर अंबेडकर का सम्मान करने में अपनी सरकार को सबसे आगे बताया है. खबरों के मुताबिक मंगलवार को वेस्टर्न कोर्ट एनेक्सी भवन के उद्घाटन के मौके पर उन्होंने कहा, ‘बाबा साहेब के नाम पर सभी राजनीति करते हैं लेकिन बाबा साहेब आंबेडकर को जितना मान-सम्मान और श्रद्धांजलि हमारी सरकार ने दी है, उतना सम्मान किसी और सरकार ने कभी नहीं दिया.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि बाबा साहब की याद में परियोजनाओं को पूरा करके सरकार ने उन्हें उनका उचित स्थान दिलाया है. उन्होंने यह भी कहा कि जिस मकान में बाबा साहब ने अंतिम सांस ली थी, उसे उनकी जयंती की पूर्व संध्या पर राष्ट्र को समर्पित कर दिया जाएगा.

प्रधानमंत्री मंत्री नरेंद्र मोदी ने राजनीतिक दलों को बाबा साहेब के नाम पर राजनीति करने के बजाए उनके बताए गए रास्तों पर चलने की सलाह दी. उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा सरकार डॉ बीआर अंबेडकर के बताए गए रास्तों पर चल रही है. ‘शांति और एकजुटता’ को डॉ अंबेडकर के विचारों का मूल बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गरीब से गरीब व्यक्ति के लिए काम करना ही उनकी सरकार मकसद है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह बयान एससी-एसटी एक्ट को लेकर राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन के दो दिन बाद आया है. सोमवार को दलित संगठनों ने अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) अत्याचार निवारण अधिनियम के कुछ प्रावधानों को कमजोर करने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ भारत बंद बुलाया था. शुरुआत में केंद्र सरकार पर इस मामले पर सही से ध्यान न देने का आरोप लगा था. लेकिन बाद में सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में समीक्षा याचिका लगा दी थी.