वीडियोकॉन ग्रुप को दिए गए कर्ज के मामले में आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. उनके खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी किया गया है. यही कदम वीडियोकॉन ग्रुप के प्रमोटर वेणुगोपाल धूत के खिलाफ भी उठाया गया है. सीबीआई ने गुरुवार को चंदा कोचर के देवर राजीव कोचर से भी लंबी पूछताछ की थी. राजीव को मुंबई एयरपोर्ट पर तब हिरासत में लिया गया था जब वे देश से बाहर जा रही एक फ्लाइट पकड़ने की तैयारी कर रहे थे.

लुक आउट सर्कुलर एक नोटिस जैसा होता है जिसे सीधे एयरपोर्ट इमीग्रेशन विभाग को भेजा जाता है. इसका मकसद संबंधित व्यक्ति को देश छोड़ने से रोकना होता है. राजीव कोचर के खिलाफ भी यह जारी हुआ था. माना जा रहा है कि इस मामले में सीबीआई जल्द ही चंदा कोचर से भी पूछताछ कर सकती है. खबरें हैं कि इससे पहले जांच एजेंसी उनके पति दीपक कोचर से पूछताछ करेगी.

यह मामला आईसीआईसीआई बैंक द्वारा वीडियोकॉन को विवादित तरीके से 3,250 करोड़ का कर्ज देने से जुड़ा है. आरोप है कि वेणुगोपाल धूत ने इस रकम का 10 फीसदी हिस्सा उन कंपनियों में निवेश किया जिन्हें दीपक कोचर चला रहे थे. इसमें से 2,810 करोड़ रुपये की रकम गैर-निष्पादित संपत्ति (एनपीए) घोषित हो चुकी है.