हिंदी में राज़ी के लिए ‘सहमत’ शब्द होता है और दिलचस्प है कि फिल्म में नायिका का नाम भी यही है. इसके बाद फिल्म से जुड़ी जिस जानकारी की तरफ ध्यान जाता है, वो यह कि राज़ी, ‘कॉलिंग सहमत’ नाम के एक उपन्यास पर आधारित है जो कि एक भारतीय जासूस की असल जिंदगी पर लिखा गया है. साल 2008 में प्रकाशित ‘कॉलिंग सहमत’ के लेखक हरिंदर सिक्का हैं जो पूर्व नौसेना अधिकारी हैं. उनका यह नॉवेल सन 1971 में भारत-पाकिस्तान के आपसी तनाव की पृष्ठभूमि में एक आम कश्मीरी लड़की के जासूस बन जाने की कहानी कहता है.

इस फिल्म के ट्रेलर की बात करें तो यह एक युवा लड़की को उसके पिता द्वारा बतौर जासूस तैयार करने, उसकी शादी पाकिस्तानी सेना के एक अधिकारी से करने और उसके बाद की रोमांचक घटनाओं की झलकियां तेजी से दिखाता है. ट्रेलर में सुनाई देने वाले संवादों की सीधी-सरल भाषा बताती है कि खून खौलाने वाली अतिनाटकीय देशभक्ति दिखाने का काम यहां पर नहीं किया गया है. इसके अलावा लगभग आधी सदी पहले के वक्त को दिखाने के लिए कॉस्ट्यूम और लोकेशन पर तो ध्यान दिया गया है, लेकिन सीपिया कैमरा इफेक्ट इस्तेमाल कर इसे जबरन पुराना बनाने की कोशिश नहीं की गई है. ये दोनों ही बातें न सिर्फ ट्रेलर में एक अलग प्रभाव पैदा कर रहीं हैं बल्कि फिल्म को गंभीरता से लिए जाने की वजह भी दे देती हैं.

इसके अलावा जिस इकलौते चेहरे के लिए फिल्म देखने की उत्सुकता कई गुना बढ़ जाती है, वह आलिया भट्ट का है. आउच-आऊ करते हुए ट्रेनिंग करने वाली लड़की से लेकर फुसफुसाकर पाकिस्तान की पोल बताने वाली जासूस में बदलने तक की इन झलकियों में आलिया बेहद भरोसेमंद नजर आती हैं. सोशल मीडिया पर भले ही सालों से उनके जनरल नॉलेज का मजाक उड़ाया जा रहा हो, लेकिन यह फिल्म चुनकर उन्होंने बहुत समझदारी दिखाई है. यह समझदारी न सिर्फ उनके बचे-खुचे आलोचकों का भी मुंह बंद करने वाली है बल्कि उनकी झोली में कई ईनामी ट्रॉफियां भी डाल सकती है. फिल्म में उनके साथ विकी कौशल भी नजर आने वाले हैं जो पिछले दिनों नेटफ्लिक्स की फिल्म ‘लव पर स्कवायर फीट’ में दिखाई दिए थे और सिनेमा के परदे पर ‘रमन राघव’ के बाद से मिस किए जा रहे थे. इन दोनों के अलावा रजित कपूर और शिशिर शर्मा भी भारत और पाकिस्तान के वतन-परस्त नुमाइंदों की भूमिका में नजर आने वाले हैं और देखने लायक होंगे, इस बात का इशारा भी ट्रेलर दे देता है.

राज़ी का करीब ढाई मिनट का ट्रेलर आपको इसे देखे जाने की तीन वजहें देता है. इसमें पहली वजह है कि यह भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौर की कहानी दिखाने वाली है, दूसरी वजह है कि इसकी निर्देशक मेघना गुलजार हैं जिनसे उम्मीद है कि वे इस बढ़िया विषय को एक दिलचस्प कहानी के जरिए, ईमानदारी से ठहरकर परदे पर पेश करेंगी और तीसरी यह कि इस कहानी के मुख्य किरदार को आलिया भट्ट ने निभाया है. ये तीनों वजहें 11 मई को फिल्म रिलीज होते ही सिनेमाघर आने को राज़ी करने के लिए काफी हैं.

Play