अभी एक दिन पहले ख़बर आई कि देश की ‘महाराजा’ एयरलाइंस एयर इंडिया को ख़रीदने से टाटा समूह पीछे हट सकता है. हालांकि अभी टाटा ने इसकी कोई आैपचारिक घोषणा नही की है. लेकिन कहा जा रहा है कि जल्द ही कंपनी इस फ़ैसले का ऐलान कर सकती है. टाटा के इस विचार के पीछे खरीद-बिक्री की कठिन शर्तों को बताया जा रहा है. इससे पहले मंगलवार को जेट एयरवेज ने भी इन्हीं वजहों से एयर इंडिया की विनिवेश प्रक्रिया से हटने की घोषणा की थी. ऐसे में यह सवाल अहम हो जाता है कि एयर इंडिया को ख़रीदने में अब भी कौन-कौन सी कंपनियां दिलचस्पी ले रही हैं?

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक तमाम चुनौतियों के बावज़ूद एयर इंडिया को ख़रीदने के लिए अब भी कुछ नामी कंपनियां होड़ में बनी हुई हैं. इनमें चार तो बड़ी अंतर्राष्ट्रीय एयरलाइंस हैं. इनमें से तीन के नाम हैं- ब्रिटिश एयरवेज़, लुफ़्थांसा और सिंगापुर एयरलाइंस. सूत्रों की मानें तो खाड़ी क्षेत्र की एक एयरलाइंस ने भी एयर इंडिया को ख़रीदने में रुचि दिखाई है. सूत्र बताते हैं कि एयर इंडिया के विनिवेश के लिए तय मापदंडाें को पूरा करने के लिए ये विदेशी कंपनियां विभिन्न भारतीय कारोबारी घरानों से बातचीत भी शुरू कर चुकी हैं.

नाम न छापने की शर्त पर केंद्र सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी इन तथ्यों की पुष्टि करते हैं. हालांकि इस बाबत जब ब्रिटिश एयरवेज़ की मूल कंपनी आईएजी (इंटरनेशनल एयरलाइंस ग्रुप) से अख़बार ने संपर्क किया तो वहां से कहा गया कि हम ‘किन्हीं अटकलों पर प्रतिक्रिया नहीं देना चाहते. हालांकि एयर इंडिया के विनिवेश की प्रक्रिया को लेकर हम अपने विकल्प खुले रखेंगे.’ लुफ़्थांसा ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. वैसे बताया जाता है कि इन एयरलाइनों के अलावा कुछ अन्य बड़े और शक्तिशाली निवेशक भी एयर इंडिया के विनिवेश में रुचि दिखा रहे हैं.