उन्नाव बलात्कार मामले के मुख्य आरोपित भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है. गुरुवार को उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव (गृह) अरविंद कुमार ने यह भी बताया कि यह मामला सीबीआई को सौंप दिया गया है. कुलदीप सिंह सेंगर पर आईपीसी के अलावा पॉक्सो एक्ट की कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. खबरों के मुताबिक भाजपा विधायक सेंगर को अब कभी भी गिरफ्तार किया जा सकता है.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक बुधवार को सेंगर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने और इस मामले को सीबीआई को सौंपने का फैसला किया गया था. राज्य सरकार ने उन्नाव के जिला अस्पताल के दो वरिष्ठ डॉक्टरों को भी निलंबित कर दिया है. वहीं, उसने जेल विभाग के तीन डॉक्टरों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की बात कही है. इन डॉक्टरों पर काम में लापरवाही और पीड़िता के पिता के इलाज में अनदेखी करने के आरोप हैं. इसके अलावा डीएसपी रैंक के एक अधिकारी को भी निलंबित कर दिया गया है. अधिकारी पर आरोप था कि पीड़िता और उसके परिवार के बार-बार शिकायत करने के बाद भी उसने कार्रवाई नहीं की.

बुधवार को सुप्रीम कोर्ट और इलाहाबाद हाई कोर्ट ने भी कुलदीप सिंह सेंगर को झटका दिया था. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सीबीआई जांच कराने की अपील पर सुनवाई करने की हामी भर दी थी. कोर्ट में अगले हफ्ते इस पर सुनवाई होगी. वहीं, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने भी इस मामले का स्वत: संज्ञान लेते हुए इस पर सुनवाई के निर्देश दिए थे. यह सुनवाई आज होनी है.