21वें कॉमनवेल्थ गेम्स के आठवें दिन भारत ने अपना परचम कुश्ती की प्रतिस्पर्धाओं में लहराया है. भारत के चार पहलवानों ने शानदार प्रदर्शन के दम पर दो स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य पदक अपने नाम कर लिए हैं. सुशील कुमार और राहुल अवारे ने जहां स्वर्ण पदक जीता है तो वहीं बबीता कुमारी को रजत पद मिला. किरण को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा.

बृहस्पतिवार को भारत के लिए पदक का सिलसिला शूटिंग से शुरू हो चुका था. इसके बाद खेल प्रशंसकों की निगाहें देश के स्टार रेसलर सुशील कुमार पर जम गईं. सुशील कुमार का फाइनल मुकाबला दक्षिण अफ्रीका के रेसलर जोहानस बोथा के साथ हुआ. 74 किलो वर्ग के इस फ्रीस्टाइल कुश्ती के मुकाबले में सुशील कुमार के सामने जोहानस बोथा बेबस दिखाई पड़े. दिग्गज रेसलर सुशील ने दक्षिण अफ्रीकी प्रतिस्पर्धी पर महज 80 सेकंडों के भीतर 10-0 से जीत दर्ज कर ली.

गोल्ड कोस्ट में इस जीत के साथ सुशील ने एक रिकॉर्ड भी बनाया. उन्होंने लगातार तीन कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक अपने नाम करने की उपलब्धि हासिल की है. इससे पहले ग्लास्गो-2014 और दिल्ली- 2010 के कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान भी उन्होंने स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया था.

सुशील के दंगल से ठीक पहले 57 किलो वर्ग के फ्रीस्टाइल मुकाबले में राहुल अवारे ने देश को स्वर्ण पदक दिलाया. उनका मुकाबला कनाडा के स्टीवन ताकाहाशी से हुआ. कनाडाई रेसलर पर राहुल ने शुरू से ही दबाव बनाए रखा. उन्होंने अपने प्रतिस्पर्धी पर 11-7 से जीत दर्ज की.

इधर महिला वर्ग की कुश्ती में बबीता कुमारी ने 53 किलो वर्ग में रजत जीता. उनका मुकाबला कनाडा की डियाना वीकर से हुआ था. कनाडाई रेसलर की तकनीक के आगे हालांकि बबीता कमजोर दिखीं. मुकाबले को अपने पक्ष में करने के लिए उन्होंने हर दांव आजमाया. लेकिन जीत डियाना की हुई और उन्हें रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा. बबीता के अलावा 76 किलो वर्ग में भारत की रेसलर किरण ने मॉरिशस की काटौसकिया परिदावन को हराकर कांस्य पदक जीता.

कुश्ती के इन मुकाबलों से पहले बृहस्पतिवार को ही भारत ने शूटिंग में एक रजत पदक जीता था. यह पदक शूटर तेजस्विनी सावंत ने दिलाया था. भारतीय एथलीटों की आज की जीत के साथ देश को हासिल कुल पदकों की संख्या 29 हो गई है. इनमें 14 स्वर्ण, छह रजत और नौ कांस्य पदक शामिल हैं. पदक तालिका में आॅस्ट्रेलिया और ब्रिटेन के बाद भारत आज भी तीसरे स्थान पर बना हुआ है.