एससी-एसटी कानून में हुए बदलावों पर केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि इसमें किए गए बदलावों से यह कानून कमजोर हुआ है. साथ ही, इससे देश में अशांति, आक्रोश, असहजता और कटुता का भाव भी बढ़ा है. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. केंद्र की ओर से अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल का कहना था कि कानून बनाने का काम विधायिका का है इसलिए सुप्रीम का कानून बदलने का फैसला विधायिका के काम में दखल देने जैसा भी है. इसके अलावा कलकत्ता हाई कोर्ट ने पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव पर फिलहाल रोक लगा दी है. यह खबर भी अखबारों की प्रमुख सुर्खियों में शामिल है. राज्य स्थित विपक्षी पार्टियों ने हाई कोर्ट के इस फैसले को तानाशाही पर लोकतंत्र की जीत बताया है. साथ ही, उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से इस्तीफे की मांग की है.

गोरा बनाने और दाद-खाज में काम आने वाली स्टेरॉयड युक्त क्रीम की खुली बिक्री पर रोक लगाने की तैयारी

गोरा बनाने और दाद-खाज में काम आने वाली स्टेरॉयड युक्त क्रीम की खुली बिक्री पर जल्द ही रोक लगाने की तैयारी है. हिन्दुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीजीसीआई) ने गुरुवार को दिल्ली हाई कोर्ट को बताया कि इस बारे में जल्द ही दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे. इसके बाद केवल डॉक्टर के पर्चे पर ही इस तरह की क्रीम और दवाई मिलेंगी. इससे पहले हाई कोर्ट में एक याचिका के जरिए इन पर रोक लगाने की मांग की गई थी.

प्रधानमंत्री ने 15वें वित्त आयोग को लेकर दक्षिण के राज्यों के आरोप खारिज किए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15वें वित्त आयोग को लेकर दक्षिण के राज्यों के आरोप खारिज किए हैं. दैनिक जागरण की एक खबर के मुताबिक तमिलनाडु के चेन्नई में आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, ‘केंद्र ने ही वित्त आयोग को जनसंख्या नियंत्रण पर काम करने वाले राज्यों को प्रोत्साहन देने पर विचार करने का सुझाव दिया था. इस मुद्दे को कुछ निहित स्वार्थों की वजह से उछाला जा रहा है.’ प्रधानमंत्री का आगे कहना था कि इस सुझाव से आबादी स्थिरता पर काम करने वाले तमिलनाडु जैसे राज्यों को निश्चित तौर पर फायदा होगा. उधर. कर्नाटक का कहना है कि केंद्रीय कर राजस्व के आवंटन में साल 2011 की जनगणना के इस्तेमाल से उन राज्यों पर बुरा असर होगा, जिन्होंने जनसंख्या नियंत्रण उपायों को कुशलता से लागू किया है.

अकाल तख्त ने फिल्म नानक शाह फकीर के निर्माता हरिंदर सिक्का को सिख पंथ से बाहर निकाला

पंजाब के अमृतसर स्थित अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने विवादित फिल्म नानक शाह फकीर के निर्माता हरिंदर सिक्का को सिख पंथ से निकालने का फैसला किया है. जनसत्ता की खबर के मुताबिक बुधवार को पांच तख्तों के जत्थेदारों की बैठक में यह फैसला लिया गया है. बताया जाता है कि यह बैठक सिनेमाघरों से फिल्म वापस लेने के आदेशों को मानने से हरिंदर सिक्का के इनकार के बाद बुलाई गई थी. इससे पहले अकाल तख्त ने फिल्म की रिलीज पर पांबदी लगा दी थी. अकाल तख्त की ओर से कहा गया है कि सिख गुरुओं को जीवित रूप से दिखाने की इजाजत नहीं दी जा सकती है. उधर, दिल्ली हाई कोर्ट ने भी शुक्रवार को रिलीज होने वाली इस फिल्म पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है.

महाराष्ट्र : उपवास के दौरान दो भाजपा विधायक स्नैक्स खाते हुए दिखे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित भाजपा के अन्य नेताओं द्वारा संसद न चलने देने को लेकर रखे उपवास के दौरान दो भाजपा विधायक एक बैठक के दौरान स्नैक्स खाते हुए नजर आए. द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा विधायक बाला भेगाड़े और भीमराव तापकिर महाराष्ट्र सरकार में मंत्री गिरीश बापट द्वारा बुलाई गई एक बैठक में शामिल हुए थे और उसी दौरान यह बात सामने आई. इस घटना पर भाजपा विधायकों ने कहा है कि ऐसा उनसे गलती से हो गया.