अमेरिका की संघीय जांच एजेंसी (एफबीआई) के पूर्व प्रमुख जेम्स कोमी ने आरोप लगाया है कि डोनाल्ड ट्रंप राष्ट्रपति कार्यालय को ‘माफ़िया बॉस’ की तरह चला रहे हैं. वे अपने साथियों से विशुद्ध वफ़ादारी की अपेक्षा रखते हैं और पूरी दुनिया को अपने ख़िलाफ़ मानते हैं.

कोमी ने अपनी आने वाली क़िताब में ये आरोप लगाए हैं. इस क़िताब के कुछ हिस्से अमेरिकी मीडिया में लीक हो गए हैं. इस क़िताब का शीर्षक है, ‘ए हायर लॉयल्टीज़, ट्रुथ, लाइज़ एंड लीडरशिप.’ यह क़िताब अधिकृत रूप से अगले मंगलवार को जारी होने वाली है. इसमें कोमी ने कई ख़ुलासे किए हैं. मसलन- उन्होंने लिखा है कि ट्रंप एक वीडियो टेप को लेकर हद से ज़्यादा सचेत रहते हैं. यह वीडियो टेप रूसी वेश्याओं का है. ट्रंप ने मॉस्को में कभी इनकी सेवाएं ली थीं. अपनी क़िताब में कोमी ने यहां तक लिखा है, ‘ये अनैतिक किस्म के राष्ट्रपति हैं. इन्हें सही-ग़लत की सीमाएं पता नहीं हैं. संस्थानिक मूल्यों का भी बोध नहीं है. उनका नेतृत्व सिर्फ़ लेन-देन, स्वार्थ और निजी वफ़ादारी पर आधारित हैं.’

ग़ौरतलब है कि 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूसी दख़लंदाज़ी के मामले की जांच पहले कोमी ही कर रहे थे. मगर ट्रंप ने मई 2017 में उन्हें एफ़बीआई निदेशक के पद से हटा दिया था. उस वक़्त उन्होंने आरोप लगाया था कि ट्रंप ने उन पर पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइक फ़्लिन के ख़िलाफ़ जांच बंद कर देने का दबाव डाला था. साथ में यह भी मांग की थी कि वे (कोमी) उनके (ट्रंप के) प्रति निजी वफ़ादारी की शपथ लें. हालांकि उन्होंने इससे इंकार कर दिया था. बहरहाल तीन अमेरिकी राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुकी कोमी जैसे प्रतिष्ठित अधिकारी की क़िताब सामने आने के बाद ट्रंप की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं जो पहले ही तमाम घरेलू और बाहरी प्रतिकारों का सामना कर रहे हैं.