उन्नाव बलात्कार मामले में अपनी प्रतिक्रिया देते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को फिर दोहराया कि कोई कितना भी प्रभावशाली क्यों न हो, उसे छोड़ा नहीं जाएगा. उनके मुताबिक उनकी सरकार इस मामले में कोई समझौता नहीं करेगी. योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘जांच सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) को सौंप दी गई है. मुझे यक़ीन है कि सीबीआई आरोपित विधायक (बांगरमऊ विधानसभा सीट से भाजपा के टिकट पर चुने गए कुलदीप सिंह सेंगर) को ग़िरफ़्तार भी करेगी.’

बताते चलें कि अभी सीबीआई ने सेंगर को पूछताछ के लिए हिरासत में ही लिया है. उनकी ग़िरफ़्तारी नहीं हुई है. सेंगर पर एक 18 साल की लड़की ने सामूहिक बलात्क़ार का आरोप लगाया है. घटना पिछले साल की है. यह बीते रविवार को तब सुर्ख़ियों में आई थी जब पीड़िता ने लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के सामने ख़ुद को जलाने की कोशिश की थी. उसने आरोप लगाया था कि बीते एक साल से वह यहां-वहां भटक रही है, लेकिन पुलिस ने अभी केस तक दर्ज़ नहीं किया है.

यहां यह भी ग़ौर करने लायक है कि भाजपा के ही एक अन्य वरिष्ठ नेता आईपी सिंह ने एक दिन पहले ही दावा किया था कि योगी आदित्यनाथ ने सेंगर को ग़िरफ़्तार करने का फ़ैसला कर लिया था, लेकिन एक ‘प्रभावशाली व्यक्ति’ के दख़ल के बाद यह कार्रवाई रोक दी गई. आईपी सिंह के मुताबिक इसका ख़मियाज़ा पार्टी को उठाना पड़ा.