‘एससी-एसटी कानून खत्म करने का भ्रम कांग्रेस का फैलाया हुआ है.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह बयान दिल्ली में बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर स्मारक के उद्घाटन के मौके पर आया. बाबा साहेब की 128वीं जयंती की पूर्व संध्या पर आयोजित इस कार्यक्रम में उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस का काम सिर्फ भ्रम फैलाना है जिसका उदाहरण हम दो अप्रैल (भारत बंद के दिन) को देख चुके हैं...’ नरेंद्र मोदी ने आगे कहा, ‘एससी-एसटी कानून पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद हमने इसके खिलाफ तुरंत पुनर्विचार याचिका दाखिल की थी, लेकिन लोगों को पता नहीं चला कि इस बीच वहां छह दिनों की छुट्टी थी.’ उन्होंने यह भी दावा किया कि उनकी सरकार ने इस कानून में 25 और अपराध जोड़कर इसे और मजबूत बनाया है. नरेंद्र मोदी के अनुसार अब ऐसे मामलों की सुनवाई के लिए विशेष अदालतें गठित की जा रही हैं. उन्होंने यह भी बताया कि अति पिछड़ों को आरक्षण का ज्यादा लाभ देने के लिए अब ओबीसी वर्ग के तहत उपवर्ग बनाने की योजना है. उन्होंने कांग्रेस पर बाबा साहेब के अपमान और इतिहास से उनका नाम मिटाने के लिए ‘पूरी शक्ति’ लगा देने का भी आरोप लगाया है.

‘विपक्ष पहले अल्पसंख्यक, फिर दलित और अब महिला के नाम पर राजनीति कर रहा है.’   

— मीनाक्षी लेखी, भाजपा नेता

कठुआ और उन्‍नाव सामूहिक बलात्कार कांड पर भाजपा के रुख की हो रही आलोचना के बीच यह बयान पार्टी की लोकसभा सांसद मीनाक्षी लेखी ने दिया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के गुरुवार रात को निकाले गए ‘कैंडल मार्च’ पर सवाल उठाते हुए उन्होंने पूछा कि कांग्रेस ने पहले कभी अन्य बलात्कार पीड़िताओं के लिए ऐसा मार्च क्यों नहीं निकाला था. उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष संवेदनशील मसलों को भी अपने फायदे के लिए इस्तेमाल कर रहा है. मीनाक्षी लेखी ने आगे कहा, ‘उन्नाव कांड की पीड़िता ने मजिस्ट्रेट को दिए बयान में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का नाम नहीं लिया था. उसने बाद में प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक का नाम लिया था.’ भाजपा सांसद ने कठुआ मामले में भी कांग्रेस पर दोहरा रवैया अपनाने का आरोप लगाया है. हालांकि इस बयान की आलोचना करते हुए कांग्रेस ने कहा है कि यह अपने अधिकारों के ​लिए लड़ने वाली जनता का अपमान है और इसके लिए मीनाक्षी लेखी को तुरंत माफी मांगनी चाहिए.


 ‘उत्तर प्रदेश में​ बिगड़ी कानून-व्यवस्था के मद्देनजर वहां राष्ट्रपति शासन लगा दिया जाना चाहिए.’   

— किरणमय नंदा, समाजवादी पार्टी के नेता

उत्तर प्रदेश की मुख्य विपक्षी पार्टी समाजवादी पार्टी के उपाध्यक्ष किरणमय नंदा ने यह बात कही है. उन्होंने कहा कि उन्नाव सामूहिक बलात्कार कांड से साफ हो गया है कि राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति काफी खराब हो चुकी है. किरणमय नंदा ने आरोप लगाया है कि राज्य में महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़े हैं जिन्हें रोकने में शासन पूरी तरह नाकाम रहा है. उन्होंने आगे कहा कि पूरे देश ने देख लिया है कि कैसे बलात्कार पीड़िता के पिता की ही बर्बरता से पिटाई की गई जबकि पुलिस कह रही है कि विधायक के खिलाफ कोई सबूत ही नहीं है. किरनमय नंदा ने ऐसे पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई करने की मांग की है. उन्होंने कहा, ‘योगी सरकार अब एक दिन भी नहीं रहनी चाहिए. इसे हटाकर राज्य में अनुच्छेद 356 को लागू किया जाना चाहिए.’


‘जेम्स कोमे गुप्त सूचनाएं लीक करने वाला और झूठा इंसान है.’   

— डोनाल्ड ट्रंप, अमेरिकी राष्ट्रपति

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का यह बयान एफबीआई के पूर्व निदेशक जेम्स कोमे के आरोप सामने आने के एक दिन बाद आया है. उन्होंने शुक्रवार को कहा कि जेम्स कोमे एफबीआई के खतरनाक निदेशक थे. उनके अनुसार जेम्स कोमे जब तक अपने पद पर रहे तब तक कई लोग सोचते थे कि उन्हें उनके भयानक काम के लिए निकाल दिया जाना चाहिए जो बाद में हुआ भी. डोनाल्ड ट्रंप ने आगे बताया, ‘जेम्स कोमे ने वर्गीकृत जानकारी लीक की है जिसके लिए उन पर मुकदमा चलाना चाहिए क्योंकि उन्होंने शपथ लेकर झूठ बोला था.’ उन्होंने कोमे पर हिलेरी क्लिंटन मामले को खराब तरीके से संभालने का भी आरोप लगाया है. इससे पहले जेम्स कोमे ने डोनाल्ड ट्रंप को ‘माफिया बॉस’ बताते हुए उनकी आलोचना की थी.