भारत के मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) दीपक मिश्र ने सुप्रीम कोर्ट के अपने साथी जजों को आश्वासन दिया है कि वे उनकी मांगों पर विचार करने के लिए तैयार हैं. सूत्रों के हवाले से इस तरह की ख़बर आई है. सीजेआई के इस बदले रुख़ काे जजों के लगातार दबाव के सामने झुकने के रूप में देखा जा रहा है.

सूत्रों के हवाले से द इंडियन एक्सप्रेस ने बताया है कि सुप्रीम कोर्ट के दो जजों- जस्टिस जस्ती चेलामेश्वर और कुरियन जोसेफ़ ने हाल में ही सीजेआई को एक पत्र लिखा था. इसमें उन्होंने उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालयों में जजों की नियुक्ति अटकाए जाने का मामला उठाया था. इसके लिए उन्होंने सरकार की भूमिका पर प्रश्न चिह्न लगाया था. साथ ही जजों की नियुक्ति के मामले में सरकार की बढ़ती दख़लंदाज़ी पर भी चिंता ज़ताई थी.

बताया जाता है कि इस पत्र पर सीजेआई ने इन दोनों जजों को विचार करने का आश्वासन दिया है. साथ में यह भी बताया है के वे उनकी चिंताएं दूर करने की कोशिश कर रहे हैं. सूत्र बताते हैं कि इसी सप्ताह बुधवार को सीजेआई ने सुप्रीम कोर्ट परिसर में जिम का उद्घाटन किया था. इस कार्यक्रम के बाद उन्होंने दोनों जजों से क़रीब आधा घंटा इस मसले पर बातचीत की. उन्हें यह भी बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी उनकी इस मसले पर बातचीत हुई है.